इस 17 साल के लड़के ने अकेले ही खोद दिया कुंआ, कारण जानकर हैरत में रह जाएंगे आप

author image
Updated on 27 Apr, 2016 at 11:10 am

Advertisement

कर्नाटक के मलनाड क्षेत्र में स्थित सेट्टिसारा गांव में एक 17 साल के किशोर ने अकेले अपने दम पर एक कुंआ खोद दिया। इसका कारण जानकर आप हैरत में पड़े बिना नहीं रह सकेंगे।

द हिन्दू अखबार में छपी इस रिपोर्ट के मुताबिक, पवन कुमार नामक यह छात्र कुछ दिनों से कुंआ खोदने की योजना बना रहा था। दरअसल, उसकी मां दूर से पानी ढोकर लाती थीं और यह देखकर पवन परेशान होता था। यही वजह है कि एक दिन उसने कुंआ खोदने का निर्णय कर लिया।

पवन की मां नेत्रावती सागर के एक प्रिटिंग यूनिट में काम करती है और पिता रसोइया का काम करते हैं। इस इलाके में पानी की जरूरतों को पूरा करने के लिए अधिकतर लोगों के आंगन में अपना एक कुंआ है, लेकिन गरीब परिवार होने की वजह से पवन के आंगन में अब तक कुंआ नहीं था।

लगातार हो रही परेशानियों को दूर करने के लिए पवन ने खुद कुंआ खोदने का बीड़ा उठाया। उसने एक स्थानीय जल विशेषज्ञ से संपर्क किया और अकेले ही लगातार 45 दिनों तक खुदाई की।

पवन ने इस साल 26 फरवरी को खुदाई शुरू की थी और बीच में अपने परीक्षा के लिए 10 दिन का ब्रेक लिया। 20 अप्रैल को कुंआ खुदाई का काम खत्म हो गया। यह 55 फुट गहरा है।


Advertisement

द हिन्दू अखबार ने पवन के हवाले से बताया हैः

“कड़ी धूप में पत्थरों की खुदाई एक मशक्कत वाला काम है। 53 फुट की खुदाई के बाद जब पानी की धार फूटी तो मैं बेहद खुश हुआ। करीब 2 फुट और खोदने के बाद यह काम खत्म हो गया। मैं अब खुश हूं कि मेरी मां को अब पानी लाने के लिए सामुदायिक कुएं की तरफ नहीं जाना पड़ेगा। वह काम से लौटकर आएगी तो उसका समय बचेगा।”

पवन की यह कहानी साबित करती है कि हममें से प्रत्येक में दशरथ मांझी का संकल्प छुपा हुआ है। जरूरत है अपनी क्षमता पहचानने की।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement