रेसलिंग फेडरेशन के कारण बर्बाद हुआ था इस पहलवान का करियर, 15 साल बाद मिला इंसाफ

4:13 pm 4 Sep, 2017

रेसलिंग फेडरेशन ने सालों पहले एक गलती की थी, जिसका खामियाज़ा पहलवान सतीश कुमार को अपना करियर खत्म करके चुकाना पड़ा था। भारतीय पहलवान सतीश कुमार ने 2006 कॉमन वेल्थ गेम्स में और लॉस एंजिलिस में हुए वर्ल्ड पुलिस गेम्स में गोल्ड मेडल जीता था, लेकिन रेसलिंग फेडरेशन की गलती के कारण उनका करियर बर्बाद हो गया।

दरअसल, 2002 में रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने सतीश कुमार को एशियन गेम्स में भाग लेने से रोक दिया था। उन्हें गलती से पश्चिम बंगाल का सतीश कुमार समझ लिया गया था, जिसे प्रदर्शन बढ़ाने वाले ड्रग्स लेने के इल्ज़ाम में सस्पेंड कर दिया गया था।



सतीश को 2002 एशियन गेम्स के लिए फ्लाईट लेने से कुछ मिनट पहले ही बताया गया था कि वो इसमें हिस्सा नहीं ले सकते हैं। जांच में साबित हो गया है कि उन्हें एक गलतफ़हमी के चलते रोक दिया गया था। कोर्ट ने इसमें शामिल सभी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के भी आदेश दिए हैं, ताकि इस तरह आगे कभी किसी खिलाड़ी का करियर बर्बाद न हो।

सतीश को न्याय के लिए 15 साल इंतज़ार करना पड़ा। दिल्ली कोर्ट ने रेसलिंग फेडरेशन से सतीश को 25 लाख रुपये का जुर्माना देने को कहा है। यह तो साफ है कि भले ही इस घटना के लिए सतीश को कुछ पैसे मिल जाएंगे, लेकिन उनके बीते हुए 15 साल तो कोई नहीं लौटा सकता।

इस तरह की घटनाओं से दूसरे खिलाड़ियों का मनोबल भी गिरता है।

 

आपके विचार