ये हैं दुनिया के 10 अनसुलझे रहस्य जो अब तक पहेली बने हुए हैं

author image
5:30 pm 21 Dec, 2016

Advertisement

दुनिया रहस्यों से भरी पड़ी है। कुछ रहस्य तो ऐसे हैं, जिन पर सालों तक काम करने के बावजूद वैज्ञानिक इनके बारे में जान नहीं सके हैं। ये रहस्य अब तक अनसुलझे हैं। कुछ ऐसे रहस्यों के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।

1. एटर्नली बर्निंग लैंप

इस लैंप की खोज मध्ययुग में की गई थी। यह अब तक रहस्य है कि ये लैंप हजारों सालों तक लगातार कैसे जलते रहे थे। इस तरह के लैंप न केवल मिस्र में, बल्कि इंग्लैंड, उत्तर अमेरिका और चीन में मिले हैं।

2. रानी की मौत का रहस्य

मिस्त्र की रानी क्लियोपेट्रा एक बेहद खूबसूरत और आकर्षक महिला थीं। उनकी मौत सिर्फ 38 साल की उम्र में हो गई, लेकिन उनकी मौत कैसे हुई, इस पर पर्दा अब तक पड़ा हुआ है। क्लियोपेट्रा के जीवन का अध्ययन करने वाले विशेषज्ञ उनकी मौत के कारण पर एकजुट नहीं हैं। कुछ लोग मानते हैं कि उन्होंने खुद को सांपों से डंसवा लिया था। जबकि कुछ लोगों का मानना है कि ऑगस्टस ने क्लियोपेट्रा की हत्या कर दी थी।


Advertisement

3. द स्क्रीमिंग ममी

मिस्र में वर्ष 1886 में एक ममी की खोज की गई। इस ममी को देखकर ऐसा लगता है कि जैसे यह दर्द से कराह रहा हो। इस ममी के अध्ययन पर पाया गया कि इसमें मानव अंग मौजूद थे। खोजकर्ता मानते हैं कि इस व्यक्ति को या तो जिन्दा दफना दिया गया होगा या फिर जहर देकर हत्या कर दी गई होगी। द स्क्रीमिंग ममी अब तक रहस्य ही है।

4. तीस करोड़ साल पुराना लोहे का पेंच

30 करोड़ साल पुराना लोहे का पेंच दरअसल अपने आप में बड़ा रहस्य है। लोहे के पेंच से संलग्न यह पत्थर का टुकड़ा दक्षिण-पश्चिम मास्को से करीब 300 किलोमीटर दूर मिला था। वैज्ञानिक एक उल्का के अवशेष की जांच कर रहे थे, तभी यहां मिलने वाले लोहे के पेंच ने उन्हें चमत्कृत कर दिया। आश्चर्य की बात यह है कि करीब 30 करोड़ साल पहले पृथ्वी पर कोई प्रबुद्ध जाति का निवास नहीं था। ऐसे में यह लोहे का पेंच आया कहां से।

5. पेरू की नाज्का लाइन्स

अनसुलझे रहस्यों में एक है पेरू की नाज्का लाइन्स। यह स्थान पेरू की राजधानी लीमा से करीब 321 किलोमीटर दूर है। यहां करीब 59 किलोमीटर के क्षेत्र में ऐसी समानांतर रेखाएं बनी हैं, जो एक दूसरे को काटकर हमिंग बर्ड, बंदर और मकड़ी की आकृतियां बनाती हैं। इन रेखाओं की खोज वर्ष 1930 में की गई थी। हालांकि, अब तक यह रहस्य ही है कि इसे आखिर बनाया क्यों गया था या इसका रहस्य का था। विशेषज्ञ कहते हैं कि या तो इसे प्राचीन युग में खगोलीय उद्येश्यों के लिए बनाया गया था या फिर ये रेखाएं एलिन्यस के स्पेसक्राफ्ट से बनीं थीं।

6. कजाकस्तान की अजीबोगरीब आकृतियां

कजाकस्तान की अजीबोगरीब आकृतियां आज भी रहस्य बनी हुई हैं। माना जाता है कि तुरगई क्षेत्र में बनीं ये आकृतियां करीब 8 हजार साल पुरानी सभ्यता की निशानी है। इसे विशेषज्ञ पेरू की नाज्का लाइन्स सरीखी बताते हैं।

7. इंग्लैंड का स्टोनहेन्ज

इंग्लैंड के विल्टशायर में स्थित स्टोनहेन्ज अब तक रहस्य है। ग्रेनाइट के इन विशाल पत्थरों पर आठ भाषाओं अंग्रेजी, स्पेनिश, स्वाहिली, हिन्दी, हिब्रू, अरबी, चाइनीज और रशियन में लिखी लाइनें अनसुलझी पहेली हैं। विशेषज्ञ मानते हैं कि हो सकता है कि इन पत्थरों की कोई खगोलीय विशेषता हो। इन पत्थरों पर लिखी लाइनों का मतलब अब तक कोई जान नहीं सका है।

8. बेबीलोन हैंगिंग गार्डन

बेबीलोन के हैंगिंग गार्डेन को दुनिया के सात अजूबों में से एक माना जाता है। खोजकर्ता मानते हैं कि ईसा से करीब 450 साल पहले इराक के इस स्थान पर 300 फुट ऊंचा और 56 मील चौड़ा रहा होगा।

9. द डेविल फूट प्रिंट्स

दक्षिण-पश्चिम इंग्लैंड के डेवोन में 19वीं सदी में करीब 40 मील तक जमे बर्फ पर एक अजीबोगरीब निशान देखे गए थे। यह अब तक रहस्य है। विशेषज्ञ कहते हैं कि या तो ये निशान कंगारुओं के पैरों के हैं या फिर दानव यहां से गुजरे होंगे। कारण चाहे जो भी हो, यह अब तक रहस्य है।

10. जैक द रिपर

जैक एक रहस्यमय शख्सियत है। लंदन में रहने वाले इस व्यक्ति को एक सीरियल किलर के रूप में जाना जाता है। जैक ने पूर्वी लंद में पांच महिलाओं की निर्ममता से हत्या कर दी थी, लेकिन उसकी शक्ल कोई नहीं दे सका। जैक द रिपर से प्रेरित होकर कई किताबें लिखीं गई और कई फिल्मों का निर्माण किया गया। हालांकि, यह अब तक रहस्य ही है कि जैक आखिर था कौन।

topclassblackcabtourslondon


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement