ये हैं दुनिया के 10 सबसे महंगे तरल पदार्थ

Updated on 4 Jun, 2017 at 10:03 am

Advertisement

अगर आपसे, महंगी चीज़ों के बारे में विचार करने को कहा जाए तो आपके दिमाग में क्या क्या चीज़ें आएंगी? सामान्य तौर पर आप सोचेंगे बड़ी गाड़ियां, निजी विमान, हीरे जवाहरात आदि के बारे में। लेकिन अगर पूछा जाए कि सबसे कीमती तरल पदार्थ कौन सा है? तो आप क्या कहेंगे? ज़ाहिर है, ज़्यादातर लोगों के मन में एक ही बात आएगी, जल।

यह बात काफी हद तक सही भी है, क्योंकि जल ही जीवन है। मगर सिर्फ मौद्रिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो फिलहाल यह इतना महंगा भी नहीं है। तो फिर सबसे महंगा तरल पदार्थ कौन सा है?

इस सवाल के जवाब में हम आपको बताने जा रहे हैं इस ग्रह पर पाए जाने वाले 10 सबसे महंगे तरल पदार्थों के बारे में। और अगर आप सोच रहे हैं की इस सूची में शराब भी शामिल है, तो जनाब आप एकदम गलत हैं।

1. मानव रक्त

वैसे तो मानव रक्त अपेक्षाकृत बहुतायत में उपलब्ध है, फिर भी यह काफी महंगा है। मानव रक्त की कीमत इसके प्रकार पर निर्भर करती है। कुछ प्रकार ऐसे हैं जो कि बहुत दुर्लभ हैं और इसलिए बहुत महंगे हैं।

2. गामा हाइड्रोक्सीब्यूट्रिक एसिड (जीएचबी)

यह मनुष्य के केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में पाया जाता है। डिप्रेशन (अवसाद), इंसोम्निया (अनिद्रा), नर्कोलेप्सी (औंघाई) जैसे विकारों को ठीक करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है। इसे अवैध रूप से लिक्विड एक्सटेसी या डेट रेप ड्रग के नाम से बेचा जाता है।

3. ब्लैक प्रिंटर इंक

आपका प्रिंटर चाहे कितना ही सस्ता क्यों न हो! उसमें डलने वाली इंक (स्याही) बहुत महंगी आती है। और विशेषकर ब्लैक इंक (काले रंग की स्याही) अन्य रंगों की तुलना में महंगी होती है। अब आप चाहें तो इसे एक धूर्त व्यापारिक रणनीति कहें या कुछ और, मगर यही सत्य है।

4. पारा (मरकरी)

रासायनिक जगत में केवल यही धातु ऐसी है जो साधारण ताप और दाब में द्रव रूप में होती है। इसका इस्तेमाल चिकित्सा उपकरण जैसे थर्मामीटर (ताप-मापक यंत्र) बनाने में, बिजली संचालित करने में तथा वाष्प रूप में फ्लोरोसेंट बल्ब बनाने में किया जाता है।

5. इन्सुलिन


Advertisement

इन्सुलिन एक ऐसा हार्मोन है जो मनुष्य के शरीर में पैनक्रियास (अग्नाशय) द्वारा स्वाभाविक रूप से निर्मित होता है। हालांकि, मधुमेह से ग्रस्त लोगों में यह हार्मोन पर्याप्त मात्रा में नहीं बन पाता, इसलिए ऐसे लोगों को इसे बायोसिंथेटिक फॉर्म में लेना पड़ता है जो बहुत महंगा आता है।

6. चैनल नंबर 5

सबसे पहले इस इत्र (परफ्यूम) का उत्पादन सन 1922 में किया गया था। रसायन शास्त्री अर्नेस्ट बॉक्स और कोको चैनल की सहभागिता से बना यह इत्र लोगों को इतना पसंद आया कि देखते ही देखते एक लोकप्रिय और अत्यंत महंगा ब्रांड बन गया।

7. हॉर्सशू केकड़े का रक्त (हॉर्सशू क्रैब ब्लड)

हॉर्सशू केकड़े के रक्त की आवश्यकता उच्च मात्रा में रहती है, क्योंकि इसका इस्तेमाल चिकित्सा उत्पादों की गुणवत्ता को जांचने के लिए किया जाता है। यह नीले रंग का होता है।

8. लीसर्जिक एसिड डाईथाईलामिड (एलएसडी)

साठ के दशक में इसे भ्रम पैदा करने वाले ड्रग के तौर पर बहुत व्यापक रूप से उपयोग में लाया जाता था। यह इतना शक्तिशाली है कि इसका सिर्फ एक गैलन लगभग 55 हज़ार लोगों को भ्रमित करने के लिए काफी है।

9. किंग कोबरा का ज़हर

किंग कोबरा को दुनिया के सबसे ज़हरीले साँप का दर्जा प्राप्त है। इसका ज़हर इतना घातक होता है की यह एक बड़े हाथी को मार सकता है। इसके ज़हर में ओहानिन नामक प्रोटीन पाया जाता है, जिसका दर्द निवारक औषधि बनाने में इस्तेमाल किया जाता है।

10. बिच्छू का ज़हर

बिच्छू अपने ज़हर का इस्तेमाल शिकार करने और खुद को शिकार होने से बचाने के लिए करते हैं। केवल 25 प्रतिशत बिच्छू प्रजाति का ज़हर ही मनुष्य के लिए जानलेवा होता है। इसमें पाए जाने वाले प्रोटीन को आंतों के रोग और गठिया जैसी बीमारियों के उपचार के लिए प्रयोग किया जाता है।

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement