चीन ने समुद्र पर दुनिया का सबसे लंबा पुल बना दिया, क्या भारत भी इस तरह की संरचना के लिए तैयार है?

Updated on 7 May, 2018 at 10:58 am

Advertisement

चीन ने समुद्र पर दुनिया का सबसे लंबा पुल बना लिया है। यह पुल चीन को हांगकांग और मकाउ से जोड़ देगा। ये दोनों चीन के ही स्वायत्तशासी क्षेत्र हैं। इसकी लंबाई करीब 55 किलोमीटर है और इसमें 20 बिलियन डॉलर यानी करीब 1 लाख 33 हजार करोड़ रुपए का खर्च आया है। खास बात यह है कि इस पुलिस में जो इस्पात लगा है, उससे करीब 60 एफिल टावर बनाए जा सकते हैं।

 

इस पुल का नाम है हांगकांग-झुहाई-मकाउ ब्रिज।

 

 

तकनीक व इन्फ्रास्ट्रक्चर के मामले में चीन एक के बाद एक नए हैरतंगेज कारनामें कर रहा है। यह पुल इन्फ्रास्ट्रक्चर के मामले में दुनिया में एक नया प्रतिमान स्थापित करेगा। इस पुल का निर्माण पिछले 9 साल से चल रहा था और इसे वर्ष 2017 में शुरू किया जाना था।

इस ब्रिज की उम्र 120 साल से अधिक होगी।

 

 

इस पुल को बनाने में उन्नत किस्म के इस्पात का इस्तेमाल किया गया है। यही वजह है कि इसकी उम्र 120 साल से अधिक हो सकती है। इसे बड़े इन्फ्रास्ट्रक्चर का करिश्मा भी कहा जा रहा है।

 


Advertisement

 

फिलहाल झुहाई से हांगकांग के बीच का सफर साढ़े तीन घंटे में पूरा होता है। इस पुल की वजह से यह समय महज 30 मिनट का हो जाएगा। इस पर प्रतिदन 40 हजार से अधिक वाहन गुजरेंगे।

14 हजार मजदूरों ने किया यह करिश्मा

 

 

इस पुल को बनाने के लिए 14 हजार से अधिक मजदूर लगाए गए थे। वहीं, सामानों की आवाजाही के लिए 300 जहाज समुद्र में हरवक्त जुटे थे। पुल को मजबूती देने के लिए 4 मानवनिर्मित द्वीप भी तैयार किए गए हैं।

इस पुल का एक बड़ा हिस्सा समुद्र के नीचे सुरंग से भी गुजरेगा।

 

 

6 लेन के इस पुल को इस तरह बनाया गया है कि इससे ट्रैफिल की कोई रुकावट न हो। झुहाई, हांगकांग व मकाउ के लिए ट्रैफिक अनवरत चलता रहे।

इन्फ्रास्ट्रक्चर के मामले में चीन तेज गति से आगे बढ़ रहा है। भारत भी इस मामले में कम नहीं है है। लेकिन क्या आपको लगता है कि भारत भी इस तरह की संरचना के लिए तैयार है?

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement