मिलिए दुनिया के पहले रोबोट वकील से, चौबीसों घंटे देगा कानूनी सलाह

author image
Updated on 18 May, 2016 at 3:28 pm

Advertisement

दुनिया में अर्टिफिशियल इंटेलीजेंसी पर आधारित पहला वकील तैयार हो चुका है। अमेरिका की एक लॉ फर्म ‘बेकर होस्टेटलर’ ने दुनिया का पहला आर्टिफीशियल इंटेलीजेंट वकील नियुक्त किया है।

फर्म के मुख्य सूचना अधिकारी बॉब क्रेग ने कहा:

“बेकर होस्टेटलर में हम मानते हैं कि कॉग्निटिव कंप्यूटिंग और मशीन से सीखने के अन्य रूपों जैसी उभरती तकनीकों से हमें अपने ग्राहकों को दी जाने वाली सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार कर सकते हैं।”

रॉस’ (ROSS) नाम के इस रोबोट का निर्माण आईबीएम की कॉग्निटिव (संज्ञानात्मक) कंप्यूटर वॉटसन के आधार पर किया गया है।


Advertisement

यह रोबोट विधि अनुसंधान से जुड़े सवालों पर अपनी सहायता प्रदान करेगा। वॉटसन के संज्ञानात्मक कंप्यूटिंग और प्राकृतिक भाषा की प्रोसेसिंग क्षमताओं की वजह से इस रोबोट से शोध संबंधी सवाल पूछे जाएंगे। जिसके बाद यह रोबोट कानूनों का अवलोकन कर, साक्ष्यों के आधार पर निष्कर्ष निकालेगा। और फिर सबसे अधिक उपयुक्त सबूत आधारित जवाब देगा।

यह रोबोट कानून पर नज़र रखते हुए अपने उपयोगकर्ताओं को अदालत के ऐसे निर्णयों के बारे में चौबीसों घंटे सुचना देता रहेगा, जिससे उनका कोई मामला प्रभावित हो सकता है।

लॉ कंपनी ‘बेकर होस्टेटलर’ इस रोबोट के इस्तेमाल का लाइसेंस दिवालियापन, पुनर्संरचना और कर्जदाताओं के अधिकार से जुड़ी टीम को देगी।

रॉस अपनी सेवाएं दिवालियापन और ऋण अधिकारों से संबंधित मामलों में देगा। बेकर होस्टेटलर कंपनी ने रॉस को अपने कार्यालय में कानूनी शोध का कार्य सौंपा है।

आईबीएम ने बताया कि रोबोट वकील ‘रॉस’ में सोचने-समझने की क्षमता (कॉग्निटिव कम्प्यूटिंग) है। रोबोट का प्रोग्राम खुद भी वकीलों से कानूनी ज्ञान लेता रहेगा, जो उसके डेटा फीड में इकट्ठा हो जाएगा।

‘रॉस’ रोबोट का निर्माण करने वाली कंपनी रॉस इंटेलीजेंस ने साल 2014 में टोरंटो यूनिवर्सिटी में इस दिशा में कार्य शुरू किया था।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement