Advertisement

दुनिया के 10 सबसे घनी आबादी वाले शहर में आकर आप कहेंगे- बाप रे, कहां फंस गए!

author image
11:04 pm 8 Mar, 2017

Advertisement

नेविगेशन कंपनी टॉमटॉम ने मंगलवार को दुनिया के सबसे घनी आबादी वाले शहरों की एक सूची तैयार की है, जहां ट्रैफिक जाम एक बड़ी समस्या है। वर्ल्ड इकोनोमिक फोरम की इस रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी ने दुनिया भर के 390 शहरों के पिछले 9 साल का डाटा जुटाया है और इसके आधार पर इस सूची को तैयार किया गया है। इस सूची के मुताबिक दुनिया के 10 सबसे अधिक ट्रैफिक की समस्या वाले शहर कुछ इस तरह हैं।

1. बीजिंग, चीन

यह शहर दुनिया के व्यस्ततम शहरों में एक है। यहां 50 लाख से अधिक वाहन सड़कों पर दौड़ते हैं।

2. ताइनान, ताइवान

ताइनान शहर का इन्फ्रास्ट्रक्चर आबादी का दबाव झेलने में सक्षम नहीं है। यह अब पूरी तरह टूट रहा है।

3. रियो डि जेनेरो, ब्राजील

यह शहर हाल ही में ओलिम्पिक खेलों के आयोजन के लिए चर्चा में रहा था। माना जाता है कि इस शहर में प्रत्येक व्यक्ति प्रतिदिन कम से कम 43 मिनट ट्रैफिक जाम झेलने के लिए अभिशप्त है।

4. चेगदू, चीन

इस शहर को ट्रैफिक की समस्या से मुक्ति दिलाने के लिए सरकार की तरफ से फ्री में बस यातायात की सुविधा उपलब्ध कराई गई है, ताकि लोग अपना वाहन कम से कम इस्तेमाल करें।

5. इस्ताम्बुल, तुर्की


Advertisement

ट्रैफिक जाम को लेकर यह शहर भी कम बदनाम नहीं है। वर्ल्ड इकोनोमिक फोरम की रिपोर्ट के मुताबिक, यहां का प्रत्येक नागरिक प्रतिवर्ष कम से कम 175 घंटे ट्रैफिक जाम में बिताता है।

6. बुखारेस्ट, रोमानिया

बुखारेस्ट को यूरोप का सबसे अधिक व्यस्तम शहर माना जाता है। रोमानिया की यह खूबसूरत राजधानी भी ट्रैफिक के लिए कुख्यात है।

7. चोंगकिंग, चीन

चीन का तेजी से बढ़ता हुआ शहर चोंगकिंग भी असहज ट्रैफिक व्यवस्था के लिए जाना जाता है। खराब ट्रैफिक के लिहाज से यह चीन का दूसरा सबसे बड़ा शहर है।

8. जकार्ता, इन्डोनेशिया

जकार्ता में 70 फीसदी से अधिक वायु प्रदूषण के लिए वाहन जिम्मेदार हैं। शहर में ट्रैफिक जाम का यह सबसे बड़ा कारण भी है।

9. बैंकाक, थाईलैन्ड

बैंकाक दुनिया के खूबसूरत शहरों में एक है। हालांकि, ट्रैफिक जाम यहां की भी समस्या है। बैंकाक में घंटा-डेढ़ घंटा ट्रैफिक में फंसे रहना आम बात है।

10. मेक्सिको सिटी, मेक्सिको

इस शहर में ट्रैफिक सी समस्या से निजात पाने के लिए नो व्हिकल डे का पालन किया जा रहा है। हालांकि, लगता नहीं कि इसका कोई फायदा हुआ है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement