यह है दुनिया का सबसे ईमानदार शहर, बच्चों को स्कूल में पढ़ाया जाता है नैतिकता का पाठ

author image
Updated on 16 Mar, 2017 at 4:58 pm

Advertisement

कुछ दिनों पहले एक रिपोर्ट आई थी कि रिश्वत के लेनदेन के मामले में भारत एशिया के 16 देशों में शीर्ष पर है। दुनिया भर में भ्रष्टाचार पर नजर रखने वाली संस्था ‘ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल’ ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि भारत में सरकारी सेवाओं के लिए देश में हर 10 लोगों में से 7 लोग रिश्वत देते हैं।

भारत में जहां भ्रष्टाचार के मुद्दे पर आए दिन बहस चलती रहती है। देश को भ्रष्टाचार-निरोध बनाने की बात कही जाती है। ऐसे में इस दुनिया में एक शहर ऐसा भी है, जिसे दुनिया का सबसे ईमानदार शहर माना जाता है। हम यहां बात कर रहे हैं जापान की राजधानी टोक्यो की।

टोक्यो शहर के आंकड़े यह जाहिर करते हैं कि इसे दुनिया का सबसे ज्यादा ईमानदार शहर यूं ही नहीं कहा जाता है। यहां के लोगों का इसमें बहुत बड़ा हाथ है। यहां रहने वाले लोगों ने टोक्यो को सबसे ज्यादा ईमानदार शहर बनाया है।

यहां जब भी किसी नागरिक को खोया हुआ सामान मिलता है, मामूली चीज से लेकर बेहद कीमती सामान तक, वह उसे पुलिस को सौंप देता है।

टोक्यो पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक, साल 2016 में 2 अरब से ज्यादा की राशि का सामान मिला था। इस सामान में से लगभग तीन चौथाई से ज्यादा रकम का सामान सही पते पर पहुंचा दिया गया। यहां अगर किसी का सामान खो जाए, तो संभावाना है कि वह उसके दावेदार को वापस मिल जाएगा।


Advertisement

यहां बच्चों को स्कूल से ही ईमानदारी का पाठ पढ़ाया जाता है। जापान के पूर्व पुलिस अधिकारी और वर्तमान में कनसाइ यूनिवर्सिटी में प्रफेसर तोशिनारी निशिओका ने बताया-

“जापान के स्कूलों में छात्रों को नैतिकता और शिष्टाचार की सीख दी जाती है। यहां छात्रों को उन लोगों की भावनाओं की कल्पना करना सीखाया जाता है, जिन्होंने अपना कीमती सामान या पैसे खो दिए हों।”

यहां के बच्चों में शुरू से ही यह भाव पैदा किया जाता है कि जब आपको किसी का खोया हुआ सामान या पैसे मिले तो उसे उसके असल हकदार तक पहुंचाना उनकी जिम्मेदारी है।

वहीं, जापानी कानून के मुताबिक, अगर कोई व्यक्ति खोया हुआ सामान या रकम पुलिस को सौंपता है तो उसे बतौर इनाम पुरस्कृत भी किया जाता है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement