किसी जमाने में प्रेग्नेंसी रोकने के लिए महिलाएं करतीं थीं ये उपाय, जानकर हो जाएंगे हैरान

Updated on 28 May, 2018 at 3:38 pm

मौजूदा समय में  गर्भपात कराना काफी आसान हो चुका है। आधुनिक दौर में अगर कोई महिला अनचाहे गर्भ को रोकना चाहती है तो ऐसा करने के लिए उनके पास कई सुरक्षित उपाय मौजूद हैं। महिलाओं के लिए गर्भधारण को रोकना अब कोई चिंता का विषय नहीं है, लेकिन पहले ऐसा नहीं था। किसी जमाने में महिलाएं प्राकृतिक और सरल घरेलू उपचार के अलावा गर्भपात के लिए कुछ ऐसे उपाय किया करतीं थीं,  जिसे जान आप दांतों तले उंगलियां दबा लेंगे।

 

                                              मगरमच्छ का मल

 

पहले जमाने में गर्भधारण रोकने के लिए मगरमच्छ के मल का इस्तेमाल किया जाता था। मगरमच्छ के मल को शहद और सोडियम बाइकारबोनेट के साथ मिलाकर उसका घोल तैयार किया जाता था, इसके बाद इस लेप को महिला की योनि पर लगा जाता था। कहा जाता है इससे शुक्राणु महिला के अंदर जाने से पूर्व ही नष्ट हो जाते थे, जिसके चलते महिलाओं का गर्भपात हो जाता था।

 

                                                    लोहे का पानी

 

ऐसा माना जा ता है कि अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए ग्रीस में महिलाओं को ऐसा पानी पिलाया जाता था, जिसमें लोहार अपने औजारों को ठंडा किया करते थे। लोहे के पानी का ये घोल सभी शुक्राणुओं को नष्ट कर देता था। किसी समय उपयोग में लाए जाने वाले ये खतरनाक घोल गर्भाशय के साथ साथ शरीर को भी कई प्रकार के नुकसान पहुंचाते थे।

 

 

                                                                  कोक

 

50 से 60 के दशक के बीच हार्वड मेडिकल के बर्थ कंट्रोल लैब में गार्भपात हेतु कई प्रयोग किए गए। इस शोध के दौरान वैज्ञानिकों ने पाया कि  कोक ने कुछ ही मिनटों में सभी शुक्राणुओं को मार दिया। इस  शोध में पाया गया कि कोक में मौजूद कारबोनिक एसिड ने शुक्राणुओं को नष्ट कर दिया था।

 

 

                                                        नींबू 

 

अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए महिलाएं नींबू का भी सेवन कर सकती हैं। नींबू में मौजूद सायटरिक एसिड में स्पर्म को खत्म करने की शक्ति होती है, जिसके चलते ये गर्भवती महिलाओं के लिए ये खतरनाक होता है।

 

 

                                                    अफीम के पौधे

 

जिस तरह आज के जमाने में महिलाएं गर्भ को रोकने के लिए  इमरजेंसी कॉन्ट्रसेप्टिव पिल  का इस्तेमाल करतीं हैं। इसी तरह किसी जमाने में इंडोनेशिया में महिलाएं संभोग के दौरान प्रेग्नेंसी को रोकने के लिए अफीम के पौधों का प्रयोग किया करतीं थीं, इससे उनका गर्भपात हो जाता था।

 

 

आपके विचार