सर्वे: शराब पीने में महिलाओं ने की पुरुषों की बराबरी, भारत तीसरे नंबर पर

author image
Updated on 27 Oct, 2016 at 11:03 am

Advertisement

दुनिया के विकास में महिलाओं की भागीदारी पुरुषों के साथ बराबर है। आज जहां युवतियां पुरषों से हर क्षेत्र में कदम से कदम मिला कर चल रही हैं, वही अब शराब जैसी बुरी लत में भी कंधे से कंधा मिला कर खड़ी हैं। यह खबर ज़रूर चौंकाने वाली होगी, क्योकि पुराने अध्ययनों के मुताबिक शराब पीने में पुरुष व महिलाओं के बीच 12 गुना का बड़ा अंतर था।

ऑस्ट्रेलिया स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ न्यू-साउथ वेल्स के नेशनल ड्रग व अल्कोहल रिसर्च सेंटर द्वारा किए गए शोध का विश्लेषण हाल ही में मेडिकल जर्नल ‘बीजेएम’ में प्रकाशित हुआ है, जिससे पता चला है कि दुनिया भर की महिलाओं ने अब इस मामले में भी पुरुषों की बराबरी कर ली है।

40 लाख से ज्यादा लोगों का डाटा एकत्रित करके किया गया अध्ययन

इस शोध का नेतृत्व एपिडेमिओलॉजिस्ट ( बहुव्यापक रोग-वैज्ञानिक) टिम स्लेड ने किया। इस शोध के लिए टीम ने 1980 से 2014 तक हुए अंतरराष्ट्रीय अध्ययनों से 40 लाख से ज्यादा लोगों का डाटा एकत्रित करके मुख्यत तीन स्तरों पर जिसमें शराब का उपयोग, दूसरा- बहुत अधिक उपयोग और तीसरा – शराब पीने से स्वास्थ्य व सामाजिक समस्या पर गहन अध्यन किया गया।

शोध के मुताबिक बहुत अधिक शराब पीने के मामले में पुरुषों में अधिकतम 3 गुना की दर से यह लैंगिक अनुपात गिरकर अब मात्र 1.2 गुना तक ही रह गया है, जबकि सामान्य उपयोग के मामले में यह अंतर 3.6 की दर से गिरकर 1.3 गुना तक ही रह गया है।


Advertisement

शोधकर्ताओं की टीम यह नहीं बता पाई कि पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में शराब पीने की आदत क्यों बढ़ी है, लेकिन टिम स्लेड ने बताया कि संभवतया समाज में महिलाओं के लिए शराब की स्वीकृति बढ़ने के चलते ऐसा हुआ हो।

भारत में बीते दो दशकों में शराब की खपत 55 फीसदी बढ़ी

शोध के मुताबिक रूस और एस्टोनिया के बाद भारत इस मामले में तीसरे स्थान पर है। पेरिस स्थित ‘आर्थिक सहयोग और विकास संगठन’ की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में बीते दो दशकों में शराब की खपत 55 फीसदी बढ़ी है। इसका एक बड़ा कारण यहां किशोर व महिलाओं में इसकी लत का जोर पकड़ना है।

भारत में युवतियों में बढ़ता शराब का चलन गहरी चिंता का विषय है।

आर्थिक सहयोग और विकास संगठन के मुताबिक भारत में पिछले 10 वर्षों के भीतर युवतियों में बढ़ता शराब का चलन गहरी चिंता का विषय है। रिपोर्ट बताती है की पूर्वोत्तर और पहाड़ी राज्यों में जहां महिलाओं में शराब के सेवन में बढ़ोत्तरी हुई है, वहीं महानगरीय जीवन में भी युवतियों में शराब की लत बढ़ी है।

साभार: the guardian

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement