सिर्फ़ एक छोटी सी ट्रिक से महिलाएं भी खड़ी होकर कर सकेंगी पेशाब

Updated on 20 Nov, 2018 at 5:56 pm

Advertisement

आपको कभी जोर से पेशाब आता है तो आप क्या करते हैं? ये सवाल खासतौर पर महिलाओं के लिए हैं, क्योंकि ऐसी स्थिति में पुरुषों के लिए ढेरों विकल्प हैं। भारत में शायद ही कोई ऐसा पेड़ या दीवार हो जहां आपको पुरुषों के पेशाब के धब्बे न दिखाई दे। यहां पुरुषों का खुलेआम सड़क किनारे पेशाब करना आम सी बात है। लेकिन क्या महिलाएं ऐसा कर सकती हैं, बिलकुल नहीं। महिलाओं के पास ये विकल्प नहीं है। स्थिति कितनी ही दबाव भरी क्यों न हो, मगर महिलाएं पब्लिक प्लेस में पेशाब नहीं कर सकतीं।

 

 


Advertisement

पहले तो महिलाओं को सार्वजनिक शौचालय ढूंढने के लिए दो-चार होना पड़ता है और खुशकिस्मती से पब्लिक टॉयलेट मिल भी गया तो वो इस्तेमाल करने लायक नहीं होते।

 

इस जद्दोजहद में कई बार महिलाओं के लिए एेसी स्थिति पैदा हो जाती हैं जहां उन्हें न चाहकर भी गंदे टॉयलेट इस्तेमाल करने पड़ते हैं।महिलाओं की इसी समस्या को देखते हुए अब आईआईटी दिल्ली के छात्रों ने ‘स्टैंड एंड पी’ डिवाइस का आविष्कार किया है। इस डिवाइस का नाम है ‘सैनफी’, जिसे वर्ल्ड टॉयलेट डे के दिन महिलाओं के लिए लॉन्च किया गया। इस डिवाइस की कीमत 10 रुपये है, जिसे AIIMS मेंं टेस्ट किया जा चुका है।

 

 



इस डिवाइस को #Stand up For yourself  कैंपेन के साथ लॉन्च किया गया है, जिसके तहत देशभर में इसके एक लाख डिवाइस महिलाओं को फ़्री में इस्तेमाल करने के लिए बांटे जाएंगे। भारत में हर दो महिलाओं में से एक महिला पब्लिक टॉयलेट इस्तेमाल करने से संक्रमित हो जाती है जिसे देखते हुए महिलाओं के लिए इस किट को बनाया गया।

 

इस डिवाइस के बाज़ार में आ जाने से महिलाओं को काफ़ी राहत मिलेगी। अब दबाव की स्थिति में उन्हें खुद को रोकना नहीं पड़ेगा और न ही गंदी सीट पर बैठने की ज़रूरत होगी। ये डिवाइस खासतौर पर गर्भवति महिलाएं, आर्थराइटस की समस्या से ग्रस्थ महिलाएं और शारीरिक रूप से अक्षम महिलाओं के लिए बनाया गया गया है।

 

 

लेकिन इस डिवाइस को लेकर एक सवाल जो मुह बाए खड़ा है वो ये कि क्या समाज की सोच को ये चुनौती दे सकेगा? यकीनन इसके लिए महिलाओं को समाज की सदियों पुरानी परंपरागत सोच से लड़ना पड़ेगा।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement