Advertisement

मौत है कि पीछा कर रही है और बार-बार बच कर निकल जाती है यह महिला

3:32 pm 22 Aug, 2017

Advertisement

कहा जाता है कि जन्म और मृत्यु ऊपर वाले के हाथ में है। कभी-कभी ऐसा होता है कि इस पर विश्वास और अडिग हो जाता है। ऑस्ट्रेलिया की जूलिया मोनाको लगातार तीन बार मौत को चकमा देने में कामयाब हुई हैं।

26 साल की जूलिया मोनाको पिछले तीन महीने से यूरोप भ्रमण पर है, जहां वह तीन बार आतंकी हमले की शिकार हुई हैं और तीनों ही बार वह मौत के मुंह से बाहर निकलकर आईं हैं।


Advertisement

बार्सिलोना के ताजा हमले में भी जूलिया वहां मौजूद थीं। मेलबर्न की रहने वाली जूलिया अपने दोस्तों के साथ जब एक शॉपिंग मॉल में थी, तभी ये हमला हुआ था। जूलिया ने स्थानीय मीडिया से हुई बातचीत में बताया कि अचानक हुए इस हमले में उन्हें स्टोर में ही रुकने को कहा गया था। हर तरफ घायल और मृतक लोग पड़े थे। आतंकियों की वैन सबको रौंदते हुए जा रही थी। आतंकियों ने वैन से कुचलकर 13 लोगों को मार दिया था।

इससे पहले लंदन और पेरिस में हुए हमले के दौरान भी जूलिया घटनास्थल पर मौजूद थी और बाल-बाल बची थी। लंदन ब्रिज पर जून में हमला हुआ था, जिसमें 3 हमलावरों समेत 11 लोगों की मौत हुई थी। वहीं पेरिस के नाटरे डेम में उन्हीं के सामने हमला हुआ था।

वाकई, ये अपने आप में अलग घटना है। इस पर जूलिया कहती हैं:

“इस बारे में सोचकर ही सिहरन पैदा हो जाती है। लेकिन इसको भूलकर आगे बढ़ने की जरूरत है। मेरे घरवाले वापस बुला सकते हैं लेकिन मैं अभी अपनी यात्रा रोकने पर विचार नहीं कर रही हूं। इन हमलों के मंसूबों को पूरा नहीं होने देना चाहती, इसलिए मेरा घर वापसी का इरादा नहीं है।”

Facebook

इसके अलावा जब अगस्त 1945 में अमेरिका ने जापान के दो शहरों, हिरोशिमा और नागासाकी पर हमला किया था। उस समय 29 साल के सुटोमू यामागुची दोनों ही शहरों में मौजूद थे। वह भी दोनों ही हमले में हताहत होने से बच निकले थे।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement