इस भारतीय परिवार ने सूअर का शिकार कर खाया मीट, फिर जो हुआ उसकी आप कल्पना भी नहीं करेंगे

Updated on 17 Nov, 2017 at 4:11 pm

Advertisement

न्यूजीलैंड में रहने वाले भारतीय मूल के एक परिवार के सभी सदस्य अस्पताल में जिन्दगी की लड़ाई लड़ रहे हैं। दरअसल, इस परिवार ने एक हंटिंग ट्रिप के दौरान एक जंगली सूअर का शिकार किया था और बाद में उसके मीट को पकाकर खाया था। मीट खाने के कुछ ही देर बाद परिवार के तीन सदस्य बेहोश हो गए और कोमा में चले गए।

भारतीय मूल के 35 वर्षीय शिबु कोचुममेन न्यूजीलैंड के पुतारुरु सिटी में रहते हैं और एक निजी कंपनी में काम करते हैं। वह करीब पांच साल पहले अपनी पत्नी सुबी बाबू और मां अलेकुट्टी डेनियल व दो साल की बच्ची के साथ न्यूजीलैंड शिफ्ट हो गए थे। यहीं पर उनकी एक और बेटी का जन्म हुआ, जो अब दो साल की है।

newsapi
शिबु कोचुममेन पत्नी सुबी बाबू, मां अलेकुट्टी डेनियल व दो बेटियों के साथ।


Advertisement

पिछले मंगलवार को कोचुममेन अपने पूरे परिवार के साथ शिकार करने निकले थे। इस दौरान उन्होंने न केवल एक जंगली सूअर का शिकार किया, बल्कि जंगल में ही उसका मीट भूनकर खा लिया। इन तीनों की हालत बिगड़ने लगी। एक बात अच्छी रही कि बेहोशी की हालत में ही कोचुममेन ने एम्बुलेंस को फोन लगा दिया था, जिससे घटनास्थल पर मेडिकल इमरजेन्सी की टीम पहुंच गई और उन्हें अस्पताल ले जाया जा सका। हालांकि, अस्पताल तक पहुंचते हुए ये तीनों कोमा की स्थिति में पहुंच गए थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन तीनों की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है।

nzherald
गंभीर रूप से बीमार परिवार के तीनों सदस्यों को वाइक्टो अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी हालत अब भी खतरे में बनी हुई है।

कोचुममेन की सात साल की बड़ी बेटी का कहना है कि सोये हुए होने की वजह से उन दोनों ने मीट नहीं खाया था। इस वजह से दोनों बच गईं।

dailymail
पत्नी, बेटी के साथ शीबू कोचुममेन।

इस बीच, सूअर के मीट को लैब में टेस्टिंग के लिए भेजा गया है। हालांकि, माना जा रहा है कि इस परिवार ने जिस सूअर का मीट खाया था, वह जहरीला था।

dailymail
कैप्शनः पत्नी, बेटी के साथ शीबू कोचुममेन।

मीट के भक्षण को लोग धर्म से जोड़कर देखते हैं। इसके लिए तर्क व कुतर्क भी खूब गढ़े जाते हैं। कायदे से देखा जाए तो शाकाहार या मांसाहार लोगों की अपनी व्यक्तिगत पसंद है। हालांकि, स्वास्थ्य की दृष्टि से देखा जाए तो मांसाहार का शौक स्वास्थ्य पर भारी भी पड़ जाता है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement