जानिए क्यों लिखा होता है रेलवे स्टेशन के अंत में टर्मिनल और जंक्शन

Updated on 5 Jun, 2018 at 1:45 pm

Advertisement

भारत में हर रोज रेल यात्रा करने वाले मुसाफिरों की संख्या कई देशों की आबादी से भी अधिक है। देश के करोड़ों लोगों के लिए रेल दूरियां तय करने का साधन ही नहीं, बल्कि उनकी जिंदगी की लाइफलाइन भी है, जो हर रोज उन्हें उनके गंतव्य तक पहुंचाती है। रेलवे की लेटलतीफी और खाने की गुणवत्ता के साथ साथ यात्रियों को मिलने वाली सुविधाओं पर हमेशा से सवाल उठते रहे है, बावजूद इसके ट्रेन में सफर करना भारतीय मुसाफिरों की पहली पसंद है।

 

भारतीय रेल के विशाल नेटवर्क में लगभग 8000 रेलवे स्टेशन हैं, जिसे देश भर में बिछाए गए पटरियों के जाल से जोड़ा गया है।

 

66 हजार किलोमीटर से भी अधिक के रास्ते में फैला भारतीय रेलवे दुनिया का चौथा और एशिया का सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है, जहां हर रोज 12000 हजार से भी अधिक यात्री रेल दौड़तीं हैं।

 

 

भारत में प्रतिदिन दो करोड़ से भी ज्यादा लोग रेल से सफर करते है। आपने भी कभी न कभी रेल का सफर जरूर किया होगा। रेलवे स्टेशनों पर पहुंचते ही आपने कई बार स्टेशन का नाम भी पढ़ा होगा, लेकिन क्या कभी आपने गौर किया कि आखिर स्टेशन के बाहर जंक्शन,  टर्मिनल और सेन्ट्रल क्यों लिखा होता है? शायद नहीं। तो चलिए इस बात की जानकारी हम आपको देते हैं।


Advertisement

 

टर्मिनल

टर्मिनस को आमतौर पर टर्मिनल भी कहा जाता है। यदि किसी रेलवे स्टेशन के नाम के अंत में टर्मिनल लिखा है तो इसका मतलब है कि इसके आगे रेलवे ट्रैक नहीं है। यानी जिस दिशा से ट्रेन आई है उसी दिशा में लौट जाएगी। इन स्टेशन्स पर ट्रेनें पूर्व निर्धारित दिशा से ही होकर गुजरती हैं। फिलहाल देश में कुल 27 टर्मिनल रेलवे स्टेशन हैं।

 

सेंट्रल

रेलवे स्टेशन पर सेंट्रल लिखे जाने का मतलब है कि वो शहर का सबसे व्‍यस्‍ततम रेलवे स्टेशन है, यानि अगर किसी शहर में एक से अधिक रेवले स्टेशन हैं तो सबसे प्रमुख और महत्वपूर्ण रेलवे स्टेशन कें नाम के अंत में सेंट्रल लगाया जाता है। सेंट्रल रेवले स्टेशन पर गाड़ियों की आवाजाही अन्य रेलवे स्टेशन के मुकालबे अधिक होती है। हालांकि, यह जरूरी नहीं कि अगर किसी शहर में एक से अधिक स्टेशन है तो वहां सेंट्रल स्टेशन होगा ही, जैसे दिल्ली में कोई सेंट्रल स्टेशन नहीं है। भारत में मुंबई सेंट्रल, चेन्नई सेंट्रल और कानपुर सेंट्रल समेत कुछ अन्य सेंट्रल स्टेशन्स हैं।

 

 

 जंक्शन

जंक्शन वो स्टेशन होता है जहां ट्रेंनों की आवाजाही के एक से अधिक रास्ते होते हैं। जंक्शन रेलवे स्टशन में ट्रेन के प्रवेश करने के 3 से ज्यादा रूट्स हो सकते हैं और तीन अलग दिशाओं से ट्रेन स्टेशन को छोड़ भी सकती है। वैसे तो भारत में कई जंक्शन हैं, लेकिन कुछ बड़े जंक्शन स्टेशन में मथुरा जंक्शन (7 रूट्स ), (सालेम जंक्शन (6 रूट्स ), विजयवाड़ा जंक्शन (5 रूट्स ), बरेली जंक्शन (5 रूट्स ) शामिल हैं।

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement