Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

ओलंपिक या वर्ल्ड कप 4 साल बाद ही आते हैं, कारण जानते हैं आप?

Published on 1 July, 2018 at 9:00 am By

ज्यादातर वैश्विक खेल मुकाबले 4 साल बाद ही आयोजित होते हैं। आपने इस पर कभी सोचा है कि ये 2 साल, 3 साल पर भी तो हो सकते हैं, जो कि होते नहीं। हमने इस पर तहकीकात की तो कई बातें पता चली, जो आपसे शेयर करने जा रहे हैं।


Advertisement

 

 

दरअसल, इस जानकारी के लिए इतिहास खंगालना बेहद जरूरी है, तभी कारण के जड़ तक पहुंचा जा सकता है। 776 ईसा पूर्व की बात है, जब सैनिकों के बीच खाली समय में खेल प्रतियोगिताएं कराई जाती थीं। ये उनके अभ्यास का जरिया हुआ करता था, जो बाद में नियमित खेल आयोजनों के रूप में बदल गया।

 

 

जब सैनिकों की खेल प्रतियोगिता लोकप्रिय हो रही थी, तो इसमें आम खिलाड़ियों को भी मौके दिए जाने लगे। सैनिकों के सीमित समय और तैयारियों को देखते हुए 4 वर्ष की अवधि के बाद आयोजन होने लगे। इस 4 साल की अवधि को ‘ओलंपियाड’ कहा गया जो कि ओलंपिया पर्वत के नाम पर है। वहीं ये खेल आयोजन हुआ करते थे।

 



 

जब साल 1896 में ग्रीस (एथेंस) से ओलंपिक खेलों को शुरू किया गया था तभी इसे हर चार साल पर आयोजित करने की परंपरा सी बन गई। अन्य खेल प्रतियोगिताओं ने भी खेल प्रबंधन आदि के लिए समय की जरूरत के हिसाब से इसे ही अपनाया। गौर करने की बात ये है कि उस दौर में आने-जाने के लिए हवाई माध्यम नहीं थे, लेकिन आज स्थिति तेजी से बदली है।

 

 

फ़ुटबाल में FIFA और क्रिकेट में ICC टीमों और खिलाडियों पर बहुत ही ज्यादा ध्यान देती है। लिहाजा अनेकों टूर्नामेंट का आयोजन होता रहता है। ये भी एक कारण है कि बड़े आयोजनों पर 4 साल का समय लिया जाता है।

 

 


Advertisement

जहां तक ओलंपिक की बात है तो इसकी शुरुआत 6 अप्रैल, 1896 को ग्रीस (एथेंस) से हुई थी, जिसमें 14 देशों के 200 एथलीटों ने 43 मुक़ाबलों में भाग लिया था। ओलंपिक 1896 से हरेक चार साल पर आयोजित किया जाता है। वहीं, फीफा फ़ुटबॉल वर्ल्ड कप और क्रिकेट वर्ल्ड कप हर चार साल के बाद खेला जाता रहा है। हालांकि, आपात स्थिति में ये आयोजन रोके भी जाते रहे हैं।

Advertisement

नई कहानियां

मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया

मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया


क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए

क्रिएटीविटी की इंतहा हैं ये फ़ोटोज़, देखकर सिर चकरा जाए


G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!

G-spot को भूल जाइए, ऑर्गेज़्म के लिए अब फ़ोकस करिए A-spot पर!


Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा

Eva Ekeblad: जिनकी आलू से की गई अनोखी खोज ने, कई लोगों का पेट भरा


Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी

Charles Macintosh ने किया था रेनकोट का आविष्कार, कभी किया करते थे क्लर्क की नौकरी


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Sports

नेट पर पॉप्युलर