Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

क्या आपको पता है ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ का मुखड़ा सिगरेट के एक खाली पैकेट पर लिखा गया था?

Published on 13 August, 2016 at 6:51 pm By

कहते हैं कि संगीत हमारी रूह है। अगर हम ध्यान से सुनें तो हवाओं के शोर में, पेड़ों की पत्तियों की सरसराहट में, पंक्षियों के चहचहाहट में, नदियों और झरनों के पानी के बहाव में, बारिश के रिमझिम बरसने में, बच्चों की मासूम खिलखिलाहट में भी संगीत है। दिल की धड़कनों में भी सुर होता है, गम में और ख़ुशी में, यहां तक हमारी हर सांस में संगीत बसा है।


Advertisement

यही संगीत जब देशभक्ति के राग में समाहित होता है, तो इसका उन्माद अलग ही प्रतीत होता है। जब बात हो सुर सम्राज्ञी लता मंगेशकर के आवाज़ की, तो मुझे नहीं लगता कि उन्हें किसी परिचय की ज़रूरत है। मेरा हृदय आज भी उनके द्वारा जीवित किए गए गीत ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ को सुनने के बाद द्रवित हो जाता है।

निश्चित रूप से आपको पता होगा कि इस गीत के रचयिता महान गीतकार व कवि प्रदीप थे। लेकिन क्या आपको इस गीत के रचे जाने से लेकर गाए जाने तक की कहानी पता है? अगर नहीं तो आज हम आपको बताते हैं।

प्रदीप ने ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ का मुखड़ा मुंबई में समंदर के पास टहलते हुए सिगरेट के एक खाली पैकेट पर लिखा था।

जी हां, चौकिए मत। दरअसल, वर्ष 1962 में चीन से धोखे में मिली हार और शहीद शैतानसिंह व अन्य शहीदों की शहादत पूरे देश के जहन में उथल-पथल मचा रखी थी। ऐसे अवसर पर कवि प्रदीप से बार-बार एक देशभक्ति गीत लिखने का आग्रह किया गया, ताकि पूरे देश के लोगों में फिर से जोश भरा जा सके।



कवि प्रदीप, जो खुद भी हर भारतीय की तरह वर्ष 1962 के युद्ध की हार से निराश थे, एक दिन मुंबई के माहिम बीच पर सैर के लिए निकले। अचानक उनके दिमाग में ये पंक्तियां आईं। उन्होंने अपने साथ सैर पर आए साथी से पेन मांगा और चारमीनार सिगरेट के डिब्बे से प्लास्टिक हटाकर उस पर इस गाने का पहला छंद लिखा, “ऐ मेरे वतन के लोगों, आंखों में भर लो पानी, जो शहीद हुए हैं उनकी, जरा याद करो कुर्बानी।”

इस गीत के लिखे जाने से कुछ हफ्ते पहले ही निर्माता महबूब खान ने उनसे राष्ट्रीय स्टेडियम में आयोजित एक कार्यक्रम के लिए उद्घाटन गीत लिखने के लिए कहा था। प्रदीप का जवाब था वह इसके लिए तैयार हैं, लेकिन वे अभी इसकी कोई जानकारी नहीं देंगे। इसके बाद उन्होंने लता मंगेशकर और संगीत निर्देशक सी. रामचंद्र को अपनी इस योजना में शामिल कर लिया, और उसके बाद जो हुआ, वह एक इतिहास है।

जब दिल्ली के नेशनल स्टेडियम में करीब 50 हजार हिंदुस्तानियों के हुजूम के सामने पहली बार ये गीत गूंजा था। गीत के एक-एक शब्द पंडित जवाहर लाल नेहरू को उद्वेलित कर रहे थे। हर तरफ खामोशी थी। चारों तरफ आंखें नम थी। ख़ासकर इस गीत की वो पंक्तियां ‘एक-एक ने दस को मारा’  ने भावनाओं का ऐसा ज्वार पैदा हुआ कि चीन के धोखे से चोट खाया हिमालय भी रो पड़ा।

आइए सुनते हैं यह ऐतिहासिक देशभक्ति गीत।


Advertisement

Advertisement

नई कहानियां

नेहा कक्कड़ के ये बेहतरीन गाने हर मूड को सूट करते हैं

नेहा कक्कड़ के ये बेहतरीन गाने हर मूड को सूट करते हैं


मलिंगा के इस नो बॉल को लेकर ट्विटर पर बवाल, अंपायर से हुई गलती से बड़ी मिस्टेक

मलिंगा के इस नो बॉल को लेकर ट्विटर पर बवाल, अंपायर से हुई गलती से बड़ी मिस्टेक


PUBG पर लगाम लगाने की तैयारी, सिर्फ़ इतने घंटे ही खेल पाएंगे ये गेम!

PUBG पर लगाम लगाने की तैयारी, सिर्फ़ इतने घंटे ही खेल पाएंगे ये गेम!


अश्विन-बटलर विवाद पर राहुल द्रविड़ ने अपना बयान दिया है, क्या आप उनसे सहमत हैं?

अश्विन-बटलर विवाद पर राहुल द्रविड़ ने अपना बयान दिया है, क्या आप उनसे सहमत हैं?


आधार कार्ड कैसे होता है डाउनलोड? यहां जानें इसका आसान प्रोसेस

आधार कार्ड कैसे होता है डाउनलोड? यहां जानें इसका आसान प्रोसेस


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें History

नेट पर पॉप्युलर