भारत में सदियों से इस्तेमाल हो रहे दातुन को अपनी खोज बताकर बेच रहा है यह देश!

author image
9:41 pm 19 Apr, 2017

Advertisement

आजकल केमिकल प्रॉडक्ट के बजाय जैविक और हाथ से बने उत्पादों को लोग पसंद करते हैं। ऐसे होम मेड और नेचुरल प्रॉडक्ट्स का चलन बढ़ रहा है।

अब इसी कड़ी में पश्चिमी देशों ने मिस्वाक यानि दातुन को एक खोज बताकर, उसे महंगे दामों पर बेचना शुरू कर दिया है। दरअसल, जिसे वो अपनी खोज का नाम दे रहे हैं, उसका इस्तेमाल सदियों से भारत में हो रहा है।

datoon

एक वक्त था जब दातुन से दांत साफ किये जाते थे, लेकिन केमिकल टूथपेस्ट ने इसकी जगह ले ली। हालांकि, गांव में अभी भी आमतौर पर दातुन का इस्तेमाल करते हैं।

दुनियाभर को टूथब्रश और टूथपेस्ट की आदत लगाने वाले पश्चिमी देशों को अब जाकर दातुन का पता चला है। चेक गणराज्य में मौजूद ‘योनी’ नाम की कंपनी दातुन को दांतों के लिए लाभदायक और पौष्टिक बताकर महंगे दामों पर बेच रही है।

miswak



कंपनी का कहना है कि ये प्राकृतिक टूथब्रश मिनरल्स और विटामिन्स से भरा हुआ है, जिसका इस्तेमाल दांतों के लिए बहुत फायदेमंद है। कंपनी ने जो फायदे गिनाए हैं, उनमें दांतो की चमकार, कैविटी से छुटकारा और दांतों के खराब होने की संभावना को कम करना हैं।

दातुन बेच रही इस कंपनी ने एक विडियो बनाकर उसे अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया है, जिसमें दातून को ‘Raw Toothbrush’ बताया जा रहा है। कंपनी ने दातून की कीमत 315 रुपए तय की है।

यहां देखें इस कंपनी का ऐड:


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement