दार्जिलिंग में जमकर हिंसा, कई हजारों पर्यटक फंसे, बुलाई गई सेना

author image
Updated on 8 Jun, 2017 at 11:19 pm

Advertisement

दार्जिलिंग के मौसम का मिजाज अभी भले ही ठंड का हो, लेकिन वहां का राजनीतिक माहौल पूरी तरह से गरमाया हुआ है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के राज्य के सभी स्कूलों में बांग्ला भाषा को अनिवार्य किये जाने की खबर को लेकर गोरखा जन मुक्ति मोरचा (GJM) पिछले कुछ दिनों से लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। यह विरोध प्रदर्शन दिन-ब-दिन हिंसक रूप लेता जा रहा है।

दार्जिलिंग में ममता बनर्जी मंत्रियों के साथ कैबिनेट मीटिंग कर रही थीं। तभी राजभवन के बाहर (GJM) के समर्थक उग्र प्रदर्शन करते हुए पथराव करने लगे।

इन प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोल छोड़े और हवा में गोलीबारी भी की।

नाराज प्रदर्शनकारियों ने कई सरकारी प्रतिष्ठानों को निशाने पर लिया। साथ ही उन्होंने पुलिस वालों पर जमकर पथराव किया और कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया। इस पूरी झड़प में नॉर्थ बंगाल के डीआईजी समेत 50 पुलिसवाले घायल हुए हैं।

हिंसा की आग में झुलस रहे दार्जिलिंग में अभी करीब 12 हजार से ज्यादा पर्यटक फंसे हुए हैं। हालांकि, स्थिति को नियंत्रित करने के लिए वहां सेना को बुला लिया गया है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement