विनोद कांबली ने छुए अपने बचपन के यार सचिन के पैर, उसके बाद जो हुआ वो दिल छू लेने वाला है

author image
Updated on 23 Mar, 2018 at 5:45 pm

Advertisement

सचिन तेंदुलकर और विनोद कांबली एक वक्त काफी अच्छे दोस्त हुआ करते थे। दोनों ने ही क्रिकेट की बारीकियां अपने गुरु रमाकांत आचरेकर से सीखे थे। स्कूली क्रिकेट के दिनों में 664 रनों की रिकॉर्ड साझेदारी करके सुर्खियों में आने वाली सचिन-कांबली की जोड़ी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में जोरदार एंट्री ली थी।

 

 


Advertisement

हैरिस शील्ड के सेमीफाइनल में दोनों के बीच 664 रनों की साझेदारी हुई थी, जिसमें सचिन ने 326 और कांबली ने 349 रनों की धमाकेदार पारी खेली थी।

 

 

हालांकि, जहां सचिन पारी दर पारी आगे बढते गए। वहीं, शुरुआती मैचों में शानदार प्रदर्शन करने वाले कांबली का करियर बहुत दूर नहीं जा सका। 1991 में वनडे और 1993 में टेस्ट क्रिकेट करियर की शुरुआत करने वाले कांबली का अक्टूबर 2000 के बाद से भारतीय टीम में चयन नहीं किया गया। फिर उन्होंने 2009 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेते हुए क्रिकेट को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया।

 

 

विनोद कांबली के भारतीय क्रिकेट टीम से बाहर होने के बाद उनके और सचिन के बीच दूरियां बढ़ गई। एक टीवी शो में विनोद कांबली ने सचिन पर उनके बुरे वक्त में सपोर्ट न करने का आरोप तक लगा दिया था। इसके बाद इन दोनों के रिश्तों में तल्खी और बढ़ गई।

 

 

लेकिन अब देर से ही सही दोनों के बीच की नाराजगी की ये दीवार ढहती हुई दिखाई दे रही है। दरअसल, मुंबई टी-20 लीग के पुरस्कार समारोह के दौरान कुछ ऐसा देखने को मिला, जिसने क्रिकेट फैंस का दिल जीत लिया।

 

 

हुआ कुछ यूं कि इस लीग के फाइनल के बाद प्रेजेंटेशन सेरेमनी के दौरान जब विनोद कांबली रनरअप टीम का मेडल लेने के लिए पहुंचे, तो सुनील गावस्कर ने वह मेडल सचिन को थमा दिया। जैसे ही सचिन ने वह मेडल कांबली को पहनाया, तो उन्होने झुककर सचिन के पैर छू लिए। इसके बाद सचिन ने मुस्कुराते हुए अपने दोस्त को उठाकर गले लगा लिया।

 

 

इस खास लम्हें की तस्वीरें और विडियो तेजी से वायरल हो रहे हैं।

 

 

 

 

यही नहीं, बीते जनवरी तेंदुलकर ने कांबली को बर्थ-डे की शुभकामनाएं भी दी थीं। तेंदुलकर ने पुराना फोटो शेयर करते हुए लिखा था-

 

“तुम जियो हजारो साल, साल के दिन हो हजार। जन्मदिन की शुभकामनाएं कांबली।”

 

 

हम तो यही कामना करते हैं कि दोनों की दोस्ती फिर से वही बचपन वाली यादों से गुजरकर उनकी जिंदगी में खुशियां भर दें।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement