Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

घास की रोटी खाने को मजबूर हैं सूखे की मार झेल रहे गांव के लोग

Published on 11 December, 2015 at 4:52 pm By

आनाज़ के खाली पड़े डिब्बे, भूख से बिलखते बच्चे, सूखे की मार खा कर कमज़ोर शरीर और चूल्‍हे में पकती घास की रोटियां। यह कहानी सिर्फ़ ‘प्रसाद’ की नहीं है, बल्कि उसके जैसे ही बुलंदशहर जिले के लालवाडी गांव में रहने वाले तमाम लोगों की है, जिन्हें पेट भरने के लिए मजबूरन घास की रोटियों पर निर्भर रहना पड़ रहा है।

एनडीटीवी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस घास को ग्रामीण फिकार कहते हैं। लगातार दो साल से सूखे की मार झेल रहा बुलंदशहर जिला उत्तर प्रदेश में स्थित है। इसे राज्य के अन्य 49 जिलों के साथ सूखाग्रस्त घोषित किया गया है।


Advertisement

प्रसाद कहते हैंः

“हम अमूमन फिकार को पालतू जनवरों को खिलाते हैं, लेकिन अब हमारे पास कोई और चारा भी तो नहीं है।”

फिकार गांव में पाई जाने वाली एक तरह की घास होती है, जिसे ग्रामीण सुखा कर पीस लेते हैं। फिर इसे खल-मूसल में डाल कर गूंथ कर, इसको रोटी का आकार देकर, मिट्टी के तवा पर पका लेते हैं।



देखने में यह गाढ़े हरे रंग की होती है और स्वाद में कड़वाहट लिए, जिन्हें बच्चे बेमन से खाते हैं।

इस गांव की विवशता सिर्फ़ घास की रोटी तक ही सीमित नहीं है। भारत के अन्य हिस्सों की तरह यहां भी दाल से लेकर प्याज, टमाटर और अन्य सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं। रोटी के साथ सब्ज़ी के लिए यह गांव पालक की तरह दिखने वाली पत्तियों का इस्तेमाल कर रहा है।



Advertisement

विकास का नारा लगाने वाले सभी दलों को कम से कम इस गांव में आना चाहिए। पर वोट मांगने नहीं और न ही विपक्षी दलों पर कीचड़ उछालने। कम से कम इसलिए की यह गांव उन्हें एक ऐसे भारत की तस्वीर दिखाता जहां सच में सोचने की जरूरत है।

Advertisement

नई कहानियां

सुहागरात से जुड़ी ये बातें बहुत कम लोग ही जानते हैं

सुहागरात से जुड़ी ये बातें बहुत कम लोग ही जानते हैं


नेहा कक्कड़ के ये बेहतरीन गाने हर मूड को सूट करते हैं

नेहा कक्कड़ के ये बेहतरीन गाने हर मूड को सूट करते हैं


मलिंगा के इस नो बॉल को लेकर ट्विटर पर बवाल, अंपायर से हुई गलती से बड़ी मिस्टेक

मलिंगा के इस नो बॉल को लेकर ट्विटर पर बवाल, अंपायर से हुई गलती से बड़ी मिस्टेक


PUBG पर लगाम लगाने की तैयारी, सिर्फ़ इतने घंटे ही खेल पाएंगे ये गेम!

PUBG पर लगाम लगाने की तैयारी, सिर्फ़ इतने घंटे ही खेल पाएंगे ये गेम!


अश्विन-बटलर विवाद पर राहुल द्रविड़ ने अपना बयान दिया है, क्या आप उनसे सहमत हैं?

अश्विन-बटलर विवाद पर राहुल द्रविड़ ने अपना बयान दिया है, क्या आप उनसे सहमत हैं?


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें People

नेट पर पॉप्युलर