हिमाचल के इस खूबसूरत गांव का नाम चीन से युद्ध के बाद बदल दिया गया था, वजह अजीब नहीं थी

Updated on 2 Aug, 2018 at 6:07 pm

Advertisement

चीन से सटे भारत के बॉर्डर इलाके बेहद दुर्गम हैं लिहाजा लोगों को जानकारी भी कम ही है। चीन से जब विवाद होता है तो ही अजीब-अजीब नाम सुनने को मिलते हैं। फिलहाल, हम आपको सीमा पर स्थित एक ऐसे गांव के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी किस्मत ही युद्ध की वजह से बदल गई।

 

View this post on Instagram


Advertisement

The green Kinnauri topi worn proudly by the locals is a unique cultural symbol for the region of Kinnaur. What's special is that women and men have the same cultural identifier. . Here in Kalpa a local woman explained to us what this green cap means to her people. She called it her 'pride and identity'. . To simplify she told us, "Just as women outside wear dupatta before stepping out of the house, here in Kalpa, we wear our Kinnauri Topi." . Join us on this journey this August as we take you through the exciting Kinnaur- Spiti circuit. . DM for trip itinerary. Call: 9871083849/ 9654485394 Mail: [email protected] . . . . . . #thedoihost #tripotocommunity #himachal #himachalpradesh #onehimachal #himalayas #himalayangeographic #india #indiatravels #travel #lonelyplanetindia #discoverglobe #beautifuldestinations #solotravel #nomadsofindia #travelindia #indiaphotographyclub

A post shared by Disha & Sambit (@thedoihost) on

 

दिल्ली से लगभग 600 किलोमीटर दूर हिमाचल की खूबसूरत वादियों में स्थित गांव कलपा का नाम उन दिनों ‘चीनी’ हुआ करता था। तिब्बती मठ और हिंदू मंदिरों के लिए यह गांव खासा प्रसिद्ध रहा है। 1962 में हुई इंडो-चाइना वॉर के समय इसका नाम बदल दिया गया। चीन से सटे भारतीय क्षेत्र के किसी गांव का नाम चीनी हो, ऐसा कैसे संभव हो सकता है!

 

 

चीनी का एक मतलब तो चीनी (सुगर) होता है और दूसरा चीन के लोगों को भी भारत में चीनी कहा जाता है। ऐसे में युद्ध के समय ही गांव का नाम कलपा कर दिया गया। आखिर देशभक्ति भी कोई चीज होती है, गांव के लोगों ने अपने देश भारत को समर्थन देते हुए नाम बदलने पर राजी हुए थे।

 

View this post on Instagram



Cute Or Not 😍 . Explore Himalayas With @jannatehimachal . Photo Courtesy :- @travelr_life © . Location:- Reckongpeo | Himachal Pradesh | INDIA. . keep Himalayas Clean & Green Save Water & Say No to Plastic Let's Save Our Mother Nature . Keep Sharing your photographs or videos with #jannatehimachal to win a chance to get them featured in our gallery. . Lets Experience The Most Unexplored Region Of The Himalayas.You Can Also Be a Part Of Our Journey @jannatehimachal . #exploretheunexplored #unlimitedparadise #heavenly_shotz #thisweekoninstagram #traveladdict #traveldiaries #aerialshot #iphonesia #ig_colour #highaltitude #instamountain #instadaily #instaphotography #hippielife #passionpassport #beautifulskyseries #beautifuldestinations #foggyweather #dronephotography #photojournalism #naturelover #agameoftones #vscoindia #himalayasin #snowcoveredmountains #coloursofinstagram #jannatehimachal #mountainlovers #instalife

A post shared by Jannat-E-Himachal (@jannatehimachal) on

 

इसी गांव के मशहूर डाक बंगले चीनी के केयर टेकर तोताराम ने जानकारी दी कि1960 में चीनी में पहला पुलिस स्टेशन खुला था। उन दिनों चोरी की वारदात बढ़ गई थी। इस गांव का पहला स्कूल 1900 के आस-पास खुला था। समुद्र तल से 2,759 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह गांव शिमला से 260 किमी दूर स्थित है। यहां प्रकृति की अनुपम सुंदरता देखने को मिलती है, जब सुबह में बर्फीले पहाडों के बीच में उगते हुए सूर्य की स्वर्णिम आभा चारों ओर फैलती है।

 

 

जानकारी के लिए बता दें कि आजाद भारत का प्रथम वोटर श्याम सरन नेगी इसी गांव से आते हैं। आज ये गांव देशभक्ति और समर्पण की मिसाल कायम किए है!

 

View this post on Instagram

#first #voter #free #india #shyamsharannegi #meeting #old #overwhelmed #himachal #himalyas #kalpa

A post shared by Sagar Sharma (@sharmaauntykabeta) on


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement