भारत में लाखों साल पहले बने पत्थरों के ये टूल्स दुनिया के वैज्ञानिकों के लिए चुनौती बन गए हैं

author image
Updated on 2 Feb, 2018 at 12:29 pm

Advertisement

मानव की उत्पत्ति कब हुई। इस पर लंबे समय से बहस चल रही है। हालांकि, हाल के वर्षों में मानव उत्पत्ति की कहानी उलझ सी गई दिखती है। वैज्ञानिक खोजों के मुताबिक, होमो सेपियन्स अफ्रीका से निकले थे और बाद में अलग-अलग प्रजातियों में घुल-मिल गए थे। वैज्ञानिकों ने यह माना है कि मानव जाति अफ्रीका से होते हुए पूरी दुनिया में फैली थी। इस संबंध में वैज्ञानिकों ने अलग-अलग समय में अलग-अलग थ्योरीज पेश की हैं और इसके आधार पर ही प्राचीन काल में मानव जाति की अवधारणा को स्थापित किया जाता रहा है।

हालांकि, अब जो साक्ष्य मिल रहे हैं, उनके आधार पर कहा जा रहा है कि मानव जाति के प्राचीन काल से लेकर अाधुनिक काल तक के सफर में भारत का एक महत्वपूर्ण स्थान रहा है। भारत में लाखों साल पहले बने पत्थरों के टूल्स यानी उपकरण मिले हैं। करीब 385,000 साल पहले बने पत्थरों ये टूल्स अब दुनियाभर के वैज्ञानिक समुदाय के लिए चुनौती बनकर उभरे हैं।

दक्षिण भारत के अत्तिरापक्कम में चल रही खुदाई के दौरान मिले ये उपकरण मानव जाति के क्रमागत विकास की अवधारणा में नई थ्योरी पेश करते हैं। अमेरिकी अखबार वाशिंग्टन पोस्ट में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, इन टूल्स के आधार पर वैज्ञानिकों ने स्वीकार किया है कि भारत में कथित रूप से आधुनिक मानव जाति के आगमन से पहले ही यहां ऐसे लोग मौजूद थे, जो उपकरण निर्माण में बेहद आगे की सोच रखते थे। भारतीयों ने ऐसे टूल्स बनाने में दक्षता हासिल कर ली थी, जो उस समय के हिसाब से बेहद आधुनिक बात थी।

अब सबसे बड़ा प्रश्न यह है कि यह उन्नत तकनीक तमाम सभ्यताओं से पहले आखिर भारत कैसे पहुंची।

 


Advertisement

अत्तिरापक्कम में इन उपकरणों के साथ ऐसी कोई चीज फिलहाल नहीं मिली है, जो यह साबित कर सके कि यह आधुनिक मानव जाति द्वारा ही निर्मित थे। अगर यह साबित हो जाए कि ये उपकरण आधुनिक मानव जाति द्वारा निर्मित थे, तब क्रमागत विकास का टाइमलाइन बदल जाएगा। अगर यह बात साबित नहीं होती तो यह मान लेना चाहिए कि 385,000 साल पहले भारत में उन्नत सोच रखने वाले व्यक्ति मौजूद थे।

दोनों ही मामलों में यह एक बड़ी बात होगी, क्योंकि जहां तक आधुनिक मनुष्य की अवधारणा है तो यह कहा जाता है कि इसकी उत्पत्ति अफ्रीका में करीब 3 लाख साल पहले हुई थी। यह दावा मोरक्को के गुफाओं में मिले मानव जाति के अस्थि अवशेष की कार्बन डेटिंग के आधार पर किया जाता रहा है।

वहीं, इजाराइल में मिले अस्थि अवशेष इस बात की तरफ इंगित करते हैं कि करीब 194,000 साल पहले मानव जाति अफ्रीका से निकलकर दूसरी तरफ फैल गए थे।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement