नौसेना को मिला अत्याधुनिक तारपीडो, दुश्मन के पनडुब्बियों की खैर नहीं

author image
Updated on 30 Jun, 2016 at 12:47 pm

Advertisement

भारतीय नौसेना को बहुप्रतिक्षित अत्याधुनिक तारपीडो वरुणास्त्र सौंप दिया गया है। यह तारपीडो समुद्र के अंदर 40 मील प्रतिघंटा की रफ्तार से दुश्मन की पनडुब्बी या पोत पर हमला कर उसे ध्वस्त कर सकता है।

इसे डीआरडीओ की लैब में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओशन टेक्नोलॉजी के तत्वावधान में विकसित किया गया है।

वरुणास्त्र एक अत्याधुनिकि तारपीडो है, जिसकी रेन्ज सैकड़ों किलोमीटर दूर तक है। हालांकि, इसकी मारक क्षमता के बारे में आधिकारिक तौर पर कुछ कहा नहीं गया है। इसे युद्ध के दौरान पैदा होने वाली कई स्थितियों के अनुकूल बताया गया है।


Advertisement

इससे पहले डीआरडीओ की ओर से विकसित तारपीडो हल्के थे और कम दूरी तक मार करने वाले थे।

स्वदेशी हथियारों के निर्माण की दिशा में वरुणास्त्र को एक बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है।

वरुणास्त्र की खासियत यह है कि इसे जंगी जहाजों और पनडुब्बियों में लगाया जा सकता है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement