Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

बनारस की बेटियों के बनाए 302 पोस्टर्स को मिली गिनीज़ बुक में जगह, जानिए क्या थी सोच

Published on 15 January, 2017 at 6:22 pm By

ब्रश बेटियों के हाथ में थी और मौका था अपनी सोच और नज़रिए से ‘बेटियों’ को दर्शाती पेंटिंग्स बनाने का। मकसद था  तरह-तरह के रंगों से बेटियों के ज़िंदगी में इंद्रधनुष उतारने का। सच पूछिए तो बनारस की इन बेटियों ने समाज का वह आईना बना के रख दिया, जिनमें सिर्फ़ उनकी सोच और नज़रिया ही नहीं, बल्कि वो ख्वाब और उम्मीद भी झलकती है, जो इस समाज के दकनूसी मानसिकता के आगे कहीं दम तोड़ देती हैं।


Advertisement

बनारस की इन बेटियों के द्वारा बनाए गए 302 पोस्टरों की सिरीज़ को अब गिनीज़ बुक में जगह मिली है। दरअसल, इन पेंटिंग्स का इस्तेमाल जागरूकता अभियान के तहत किया गया था। यह जागरूकता अभियान बनारस के ही डॉक्टर जगदीश पिल्लई द्वारा संचालित किया जा रहा है। इससे पहले 232 पोस्टरों के साथ यह रिकॉर्ड महाराष्ट्र की सागर अंजनादेवी सूर्यकांत माणे के नाम था।

पोस्टर्स की इस सिरीज़ को गिनीज़ बुक में दाखिला मिलने से कही ज़्यादा ज़रूरी है, समाज के उस परिदृश्य को बदला जाए, जहां निम्न मानसिकता लिंग-भेद का विकार रूप ले लेती है। इसका यह अर्थ नहीं कि इसके निशाने पर कोई एक जाति या समुदाय है। यह भारतीय समाज में व्याप्त स्त्री की पराधीनता के अलग-अलग रूपों को दर्शाता है। जो कहीं न कहीं इन बच्चियों के चित्रों में झलक कर हमें सोचने पर मजबूर कर देती है।

आइए आप भी देखिए गिनीज़ बुक में दाखिल श्रृंखला की चुनिंदा तस्वीरें जो उन बच्चियों की सोच और नज़रिया जो दर्शाती हैं कि ‘बेटियों को पंख नहीं, बेहतर हवा की ज़रूरत है।’

1. साधना

“बेटी पढ़ी-लिखी होती है तो पूरे घर को साक्षर करती है। लड़कों के साथ ऐसा नहीं होता, इसके बावजूद लड़कियों पर घर-गृहस्थी का काम यह बोलकर थोप दिया जाता है कि तुम्हें एक दिन ससुराल जाना है। मैने पेंटिंग में खुद को घर से किताब लेकर स्कूल के लिए निकलते दिखाया है।”

2. पूनम



“मैंने अपनी पेंटिंग में बाधा दौड़ में हिस्सा लेने वाले धावक दिखाया है। मुझे खेल-कूद पसंद है और मैं खेलों की दुनिया में नाम कमाना चाहती हूं। लड़कों की ही तरह लड़कियों को भी खेल-कूद की आज़ादी मिलनी चाहिए। मैं पहले स्कूल में कबड्डी खेलती थी, लेकिन घर देर से आने पर डांट पड़ती थी। मुझे कबड्डी छोड़नी पड़ी।”

3. नेहा

“मेरी पेंटिंग में एक लड़की, दीपक और किताब नज़र आएगी। कुल का चिराग बेटे को माना जाता है, लेकिन लड़कियां भी लिख-पढकर ज्ञान का प्रकाश फैला सकती है। मुझे अक्सर तब डांट पड़ती है, जब मैं पढ़कर देर से घर पहुंचती हूं।”

4. नेहा पटेल


Advertisement

“गांव में लड़कियों के पहनावे और बाहर आने-जाने पर कई तरह के रोकटोक हैं। इसलिए मैंने अपनी पेंटिंग में मैं ख़ुद को गांव की एक लड़की की तरह दिखाया है, जो आगे चल कर स्कूल टीचर बनती है।”

5. निकिता

“मैंने किताब और कलम इसलिए बनाई कि इसकी ताक़त से लड़कियां ख़ुद को साबित कर सकती हैं। मेरा इलाका लड़कियों के लिए सुरक्षित नहीं है। शाम-रात के वक़्त अक्सर अपनी मम्मी के साथ ही घर पहुचती हूं।”

आपको बता दें यह पेंटिंग प्रतियोगिता आठ सितम्बर को बनारस के छह अलग-अलग शिक्षण संस्थानों में संपन्न हुई थी। इस पेंटिंग प्रतियोगिता में 516 बच्चियों ने हिस्सा लिया था। इसमें से 302 चित्रों को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने चुना। इन चुने हुए 302 चित्रों को गिनीज़ बुक के नियमानुसार पोस्टर में तब्दील कर शहर भर में लगाया गया है।


Advertisement

आज के समाज की गंभीर परिस्थिति को दर्शाती ये तस्वीरें सिर्फ़ एक निकिता, नेहा, पूनम, साधना नज़रिया नहीं है। बल्कि यह वो सच है जिसका सामना न जाने कितनी ही बेटियों को हिम्मत से करना पड़ता होगा, यह वह सपना जिसे मिलने का उन्हे अधिकार है। उन्हें उनके वस्त्रों से नही उनके हुनर से आंकिए।

Advertisement

नई कहानियां

कभी फ़ुटपाथ पर सोता था ये शख्स, आज डिज़ाइन करता है नेताओं के कपड़े

कभी फ़ुटपाथ पर सोता था ये शख्स, आज डिज़ाइन करता है नेताओं के कपड़े


किसी प्रेरणा से कम नहीं है मोटिवेशनल स्पीकर संदीप माहेश्वरी की कहानी

किसी प्रेरणा से कम नहीं है मोटिवेशनल स्पीकर संदीप माहेश्वरी की कहानी


इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो

इस फ़िल्ममेकर के साथ काम करने को बेताब हैं तब्बू, कहा अभिनेत्री न सही, असिस्टेंट ही बना लो


इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा

इस शख्स की ओवर स्मार्टनेस देख हंसते-हंसते पेट में दर्द न हो जाए तो कहिएगा


मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया

मां के बताए कोड वर्ड से बच्ची ने ख़ुद को किडनैप होने से बचाया, हर पैरेंट्स के लिए सीख है ये वाकया


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Education

नेट पर पॉप्युलर