अरेस्ट वॉरंट जारी होने पर जश्न मनाते हुए पहुंचा थाने, मां-बाप का आशीर्वाद लेकर गया जेल

Updated on 24 Oct, 2018 at 5:51 pm

Advertisement

जेल जाना भला किसे पसंद है। आज तक आपने यही देखा और सुना होगा अरेस्ट वॉरंट जारी होने पर लोग या तो भाग जाते हैं या बहुत दुखी हो जाते हैं, लेकिन गुजरात के वडोदरा का ये शख्स दूसरों से बिलकुल अलग की निकला, क्योंकि अरेस्ट वॉरंट जारी होने पर जनाब जश्न मनाने लगे और तो और नाचते हुए थाने पहुंचे।

 

 

आप सोच रहे होंगे शायद इस शख्स का दिमाग खराब हो गया है, लेकिन नहीं इसकी वजह कुछ और ही है। वडोदरा के इस शख्स के खिलाफ़ जब अदालत ने अरेस्ट वॉरंट जारी किया तो वो खुद ही नाचता हुआ माला पहने थाने पहुचं गया। हेमंत राजपूत नाम के इस शख्स की कहानी बड़ी दिलचस्प है।

 

पुलिस का कहना है हेमंत राजपूत की सुनीता के साथ शादी हुई थी, लेकिन शादी के कुछ समय बाद से ही सुनीता उसके माता-पिता के साथ रहना नहीं चाहती थी और उसने हेमंत से अलग घर लेने के लिए कहा, मगर हेमंत तैयार नहीं हुआ। बस इसी बात पर दोनों में अक्सर झगड़ा होने लगा। इसके बाद सुनीता अपने मायके चली गई और उसने फैमिली कोर्ट में तलाक और गुजाराभत्ता के लिए मामला दर्ज कर दिया।

 


Advertisement

 

फैमिली कोर्ट ने हेमंत को हर महीने सुनीता को 3,500 रुपये गुजाराभत्ता देने का आदेश दिया, लेकिन हेमंत ने कोर्ट की बात नहीं मानी, जिसकी वजह से यह रकम अब 95,500 रुपये हो गई है। सुनीता ने इन पैसों के लिए दोबारा कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। अदालत ने हेमंत को फिर से पैसे देने का आदेश दिया, लेकिन जब उसने बात नहीं मानी तो कोर्ट ने उसके खिलाफ़ अरेस्ट वॉरंट जारी कर दिया।

 

 

अदालत के आदेश के बाद जब पुलिस उसे गिरफ्तार करने घर पहुंची तो वह घर पर नहीं था। अगले दिन हेमंत अपने दोस्तों के कंधे पर बैठकर और फूल-माला पहनकर खुद ही पहुंच गया। कोर्ट ने उसे 270 दिन की जेल की सज़ा सुनाई है। सज़ा सुनने के बाद भी हेमंत दुखी नहीं हुआ। उसका कहना है वो जेल में रह लेगा, लेकिन सुनीता को एक फूटी कौड़ी नहीं देगा, क्योंकि उसने उसके माता-पिता और उसे बहुत परेशान किया है और वो खुद भी नौकरी करती है और उससे कई ज़्यादा पैसे कमाती हैं।

ऐसी घटनाएं हमारे समाज में नई नहीं है और इससे ये भी साफ़ होता है हमेशा गलती पति की ही नहीं होती, कई बार पत्नियां भी गलत होती हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement