Advertisement

अब आपकी गंध से ही अनलॉक होगा आपका फ़ोन, जानिए आखिर क्या है मामला

4:22 pm 16 Nov, 2017

Advertisement

तकनीक अब मनुष्य की क्षमता प्राप्त करने की दिशा में लगातार आगे बढ़ रहा है। बोलने-समझने वाले रोबोट की चर्चा हो रही है और अब गंध सूंघने की तकनीक भी आ चुकी है। अब वो दिन दूर नहीं है, जब मशीनें भावनाओं से लैश होंगी।

अब तक फ़िंगरप्रिंट सेंसर और फ़ेस रिकग्निशन से फोन लॉकिंग प्रचलन में था, जो कि लेटेस्ट माना जा रहा था, लेकिन अब गुजरे जमाने की बात होने जा रही है।

अगले पांच सालों के भीतर ऐसी टेक्नोलॉजी आ रही है, जिससे आपके शरीर की गंध से ही आपका फ़ोन अनलॉक होगा।

बता दें कि इस तकनीक को ‘स्वेट प्रिंट’ कहा जाता है। गौरतलब है कि शरीर का पसीना भी उतना ही यूनिक और अलग होता है जितना कि फिंगर प्रिंट। विशेषज्ञों की मानें तो पसीने में एमिनो एसिड्स रहता है, जिससे फ़ोन अनलॉक किया जा सकेगा। इस तकनीक के माध्यम से डिवाइस का डाटा भी पूर्णतः सुरक्षित रखा जा सकता है।

अल्बानी विश्वविद्यालय के असिस्टेंट प्रोफ़ेसर जैन हालामेक के अनुसारः


Advertisement

‘इस तकनीक से एक जटिल बायोलॉजिकल अनलॉकिंग सिस्टम बनाया जा सकेगा, जिससे फोन के मालिक ही केवल फोन को अनलॉक कर सकेंगे। यह तरीका फ़िंगरप्रिंट सेंसर और फ़ेस रिकग्निशन से कहीं ज्यादा कारगर होगा।’

यह तकनीक उन लोगों के लिए वरदान से कम नहीं होगा जो पासवर्ड याद नहीं रख पाते। अब चूंकि फोन मल्टीपर्पस यूज होता है तो इसकी सुरक्षा बहुत जरूरी हो गई है। यह तकनीक फोन सुरक्षा को नए स्तर पर ले जाने का काम करेगी।

ज्ञात हो कि फ़ेस रिकग्निशन की तकनीक को पहले ही हैकर ब्रेक कर चुके हैं। दस दिन में ही सिक्योरिटी रिसर्चर्स ने एप्पल के फ़ेस रिकग्निशन को एक मास्क की मदद से फेल साबित कर दिया था। इतना ही नहीं सैमसंग के फ़ेस रिकग्निशन को यूज़र की फ़ोटो से अनलॉक कर लिया गया था। ऐसे में यह नई तकनीक नई आशा लेकर आई है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement