बेटी पैदा हुई तो मोबाइल पर दिया तीन तलाक, योगी बोले न्याय होगा

author image
Updated on 4 Apr, 2017 at 7:42 pm

Advertisement

मुख्यमंत्री का पदभार संभालने के कुछ दिनों के भीतर ही योगी आदित्यनाथ ने जनता दरबार शुरू कर दिया है। योगी आदित्यनाथ जनता के दरबार में लोगों की समस्या सुन रहे हैं और उनकी तकलीफों को दूर करने की दिशा में हरसंभव प्रयास कर रहे हैं।

इसी कड़ी में एक मुस्लिम महिला अपनी 11 महीने की बेटी को गोद में उठाकर जनता दरबार पह़ुंची। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी से योगी आदित्यनाथ के जनता दरबार में पह़ुंची इस मुस्लिम महिला ने अपनी आपबीती योगी आदित्यनाथ को सुनाई। महिला ने मुख्यमंत्री को बताया कि उसके पति ने फोन पर तीन बार तलाक बोलकर रिश्ता खत्म कर लिया है।

इस शिकायत के बाद सीएम योगी ने न्याय दिलवाने का आश्वासन दिया। योगी आदित्यनाथ ने शिकायत सुनते ही खीरी पुलिस को फौरन ही मामले में जरूरी ऐक्शन लेने के निर्देश भी दिए हैं।

सबरीना नाम की इस महिला ने बताया क‌ि उसके निकाह को अभी दो वर्ष नहीं हुए हैं। निकाह के बाद से ही ससुरालवालों ने दहेज के लिए परेशान करना शुरू कर दिया था।



वह लोग दहेज में कार के साथ- साथ 20 लाख रुपए की भी मांग करने लगे। इस दौरान उसने एक बेटी को जन्म दिया। बेटी के जन्म लेने के बाद ससुराल वालों के साथ पति भी नाराज हो गया।

सबरीन ने बताया क‌ि बेटी के जन्म के बाद पत‌ि ने उसे फोन पर तलाक दे दिया और और डाक से तलाकनामा भी भेज दिया। ऐसे में न्याय की फ़रियाद लिए सबरीना सीएम योगी के दरबार पहुंची। आदित्यनाथ ने सबरीन को मदद का पूरा भरोसा दिया है।

आपको बता दें कि तीन तलाक की प्रथा की शिकार महिलाओं को सम्मान दिलवाना यूपी विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी के प्रमुख वादों में से एक है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement