अखाड़ा परिषद ने जारी की फर्जी बाबाओं की सूची, दिग्विजय ने पूछा रामदेव का नाम क्यों नहीं ?

Updated on 12 Sep, 2017 at 3:00 pm

Advertisement

पिछले कुछ सालों में फर्जी बाबाओं ने अपनी कृतियों से सनातन धर्म को नुकसान तो पहुंचाया ही है, साथ ही भक्तों से छलावा भी किया है। धर्म की आड़ में अलग-अलग तरह के फर्जी कारगुजारियों में लिप्त कई बाबा तो जेल तक जा चुके हैं। लंबे समय से मांग रही है कि इन बाबाओं पर लगाम लगाई जाए, ताकि सनातन धर्म की प्रतिष्ठा बचाई जा सके।

खासकर डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख बाबा गुरमीत राम रहीम इंसान की गिरफ्तारी के बाद दबाव और बढ़ा था।

अब अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने फर्जी बाबाओं की एक सूची जारी की है, जिनसे लोगों को बचने के लिए कहा गया है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद 13 अखाड़ों का एक संगठन है, जिसे सनातन धर्म की अग्रणी संस्था कहा जाता है।

यह सूची कुछ इस तरह है।

  • 1. आसाराम बापू
  • 2. राधे मां
  • 3. सच्चिदानंद गिरि
  • 4. गुरमीत राम रहीम
  • 5. ओम बाबा
  • 6. निर्मल बाबा
  • 7. इच्छाधारी बाबा
  • 8. स्वामी असीमानंद
  • 9. मलकान गिरि
  • 10. नारायण साईं
  • 11. रामपाल
  • 12. आचार्य कुशमणि
  • 13. ओम् नम: शिवाय बाबा
  • 14. बृहस्पति गिरी

क्यों सख्ती कर रहा है संत समाज?

संत समाज चिंतित है कि सनातन धर्म और सच्चे संतों के साख पर बट्टा लग गया है। लोगों की आस्था छलनी हो गई है और सभी भगवाधारी, दाढ़ी वाले फक्कड़ से दिखने वाले या फिर तामझाम वाले सभी बाबाओं को लोग शक निगाह से देख रहे हैं। बाबा लोग ऐसे-ऐसे जुर्म में अन्दर हैं जो सभ्य समाज का माथा शर्म से झुक जाए, संतों की बात ही अलग है। ऐसे में राम रहीम के जेल जाने के बाद बनारस में संत-समाज ने ऐसे बाबाओं के खिलाफ प्रदर्शन किया था और कड़ी सजा की मांग की थी। संत समाज को लगता है कि इस सूची के जारी होने के बाद लोग साधान होंगे।


Advertisement

इस सूची को जारी करते हुए अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष स्वामी नरेंद्र गिरी ने लोगों को गुमराह न होने के लिए कहा है। उन्होंने कहा है कि हालांकि, यह सूची पूरी नहीं है, लेकिन इनमें जिन नामों का उल्लेख है, वे दरअसल लोगों को धर्म के नाम पर ठगते हैं, शोषण करते हैं और लूटते हैं।

इस बीच, वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्वजिय सिंह ने इस सूची में बाबा रामदेव का नाम न होने पर नाराजगी जताई है।

क्या आपको भी लगता है कि इस सूची में बाबा रामदेव का नाम होना चाहिए था?


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement