आइसबर्ग से टकराने की वजह से नहीं डूबा था टाइटैनिक, सामने आई डूबने की असली वजह

author image
3:48 pm 2 Jan, 2017

Advertisement

इतिहास की सबसे बड़ी दुर्घटनाओं में से एक टाइटैनिक के डूबने को लेकर एक चौंकाने वाला दावा किया जा रहा है।

अब तक जो हम जानते हैं उसके मुताबिक ये विशाल जहाज, हिमखंड से टकराने की वजह से डूब गया था। लेकिन अब एक डॉक्युमेंट्री में दावा किया गया है कि जहाज हिमखंड से टकराने के कारण नहीं, बल्कि बॉयलर कक्षा में आग लगने की वजह से दुर्घटना का शिकार हुआ था।

गौरतलब है कि साल 1912 में हुए इस हादसे में 1500 से ज्यादा लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी।

आइरिश पत्रकार और लेखक सेनन मोलोने का ‘टाइटैनिक द न्यू एविडेंस’ नाम की इस डाक्यूमेंट्री के माध्यम से कहना है कि बॉयलर कक्ष के कोयला बंकर में आग के सुलगते रहने के कारण टाइटैनिक जहाज का ढांचा पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया था।

तीन हफ़्तों से लगी इस आग पर किसी का ध्यान नहीं गया। जब सफर के दौरान जहाज, हिमखंड से टकराया तो पहले से कमजोर हो चूका जहाज अटलांटिक सागर में डूब गया।

titanic

यह टाइटैनिक की आखिरी तस्वीर मानी जाती है ibtimes


Advertisement

30 साल तक इस हादसे पर शोध करने के बाद मोलोने ने कहा कि साउथंपटन छोड़ने से पहले जहाज के ढांचे पर पड़े निशान की तस्वीरें और उसी जगह पर हिमखंड से टकराना, उनके द्वारा पेश किए अध्ययन को बल देते हैं।

मोलोने ने यह तक कहा है कि टाइटैनिक का निर्माण करने वाली कंपनी के अध्यक्ष जे ब्रुस इस्माय को आग के बारे में पता था लेकिन उन्होंने इसे तवज्जो नहीं दी।

मोलोने का कहना है-

“आधिकारिक टाइटैनिक जांच में जहाज के डूबने को दैवीय कृत बताया गया था, लेकिन यह सिर्फ हिमखंड से टकराकर डूबने की कहानी नहीं है बल्कि इसमें आग, बर्फ और आपराधिक लापरवाही जैसे कारण भी शामिल हैं।”

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement