Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

नोटबंदी की वजह से कम हुई तिरुपति बालाजी मंदिर की आमदनी

Published on 18 February, 2017 at 10:58 am By

नोटबंदी का असर पर मंदिरों की आमदनी पर भी देखा जा रहा है। नोटबंदी की वजह से तिरुपति बालाजी मंदिर की आमदनी कम होने की खबर है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नोटबंदी से पहले तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम ट्रस्ट को 5 करोड़ रुपए प्रतिदिन के हिसाब से आय होती थी। नोटबंदी के बाद से इस आय में प्रतिदिन 1 करोड़ और कभी इससे ज्यादा की भी कमी बनी हुई है।

माना जा रहा है कि नोटबंदी की वजह से श्रद्धालुओँ की दान क्षमता पर असर पर पड़ा है।


Advertisement

बताया गया है कि इस आमदनी को पूरा करने के लिए मंदिर ट्रस्ट ने भक्तों को दी जाने वाली प्रसाद सहित दूसरी सुविधाओं का चार्ज बढ़ाने का प्रस्ताव सरकार के पास भेजा। हालांकि, राज्य के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने इस प्रस्ताव को मानने से इन्कार कर दिया।



तिरुमाला ट्रस्ट के चेयरमैन चाडलवडा कृष्णमूर्ति कहते हैंः

“हम मंदिर दर्शन के लिए जारी किए जाने वाले टिकट में मामूली वृद्धि करने पर विचार कर रहे हैं। इसके लिए राज्य सरकार की सहमति जरूरी है। हम भक्तों पर अतिरिक्त भार नहीं डालना चाहते।”


Advertisement

गौरतलब है कि मंदिर दर्शन के लिए टिकट्स के रेट 50 रुपए से 5 हजार रुपए तक हैं। इनमें से अधिकतर श्रद्धालु विशेष दर्शन के लिए 300 रुपए का टिकट लेना पसंद करते हैं। प्रतिदिन करीब 2 हजार लोग वीआईपी दर्शन करते हैं, जिसके टिकट की कीमत 500 रुपए है।

Advertisement

नई कहानियां

जानिए क्या है वास्तु शास्त्र, इसका महत्व और इतिहास

जानिए क्या है वास्तु शास्त्र, इसका महत्व और इतिहास


जामिनी रॉय: एक ऐसा महान चित्रकार, जिन्होंने चित्रकारी को दिया नया आयाम

जामिनी रॉय: एक ऐसा महान चित्रकार, जिन्होंने चित्रकारी को दिया नया आयाम


पाक पीएम इमरान खान ने विश किया हैप्पी होली, ट्विटर पर लोगों ने लगा दी लताड़

पाक पीएम इमरान खान ने विश किया हैप्पी होली, ट्विटर पर लोगों ने लगा दी लताड़


होली पर रंगों से ऐसे करें अपनी त्वचा की हिफ़ाज़त, अपनाएं ये घरेलू तरीके

होली पर रंगों से ऐसे करें अपनी त्वचा की हिफ़ाज़त, अपनाएं ये घरेलू तरीके


यहां होली में जमकर होती है पुरुषों की धुनाई, जानिए क्यों?

यहां होली में जमकर होती है पुरुषों की धुनाई, जानिए क्यों?


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

और पढ़ें News

नेट पर पॉप्युलर