संजय दत्‍त के तीन पत्नियों की तीन कहानियों का फिल्म ‘संजू’ में कोई जिक्र नहीं

author image
Updated on 3 Jul, 2018 at 4:19 pm

Advertisement

“मैं असल जिंदगी जीता हूं, परदे वाली नहीं। मैं वैसे ही जीता हूं जैसे एक आम इंसान को जीना चाहिए। अगर इसे जंगली कहा जाता है, तो मैं समझता हूं, हम सब किसी न किसी मायने में जंगली हैं।” यह बात संजय दत्त ने चैनल 4 के एक डॉक्युमेंट्री में कही थी।

वह जिस बेबाकी से ‘आम’ ज़िंदगी जीने की बात कर रहे हैं, दरअसल उस तरह से ख़ास ज़िंदगी जीने की खुशकिस्मती सबको हासिल नहीं होती। संजय दत्त का जीवन एक रईसी में पले बचपन और विरासत में मिले स्टारडम से कई कदम आगे बढ़कर है। नशीली दवाओं के खतरनाक दौर, गैरकानूनी तौर पर हथियार रखना, अंडरवर्ल्ड के साथ गलबहियां, अदालती सुनवाइयां और जेल में गुजारे गए साल के बीच झूलती, बिखरती ज़िंदगी को रूपहले पर्दे पर गढ़ा है राजकुमार हिरानी, ने जो बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचा रही है।

 

संजू की कहानी

 

 

राजकुमार हिरानी के सधे हाथों के बारे में कहा जाता है कि उनमे दर्शकों को सिनेमाघरों तक खींच लाने का करिश्माई जादू है। हिरानी इस कला में महारथी हैं कि कैसे मनोरंजन के साथ दर्शकों को “आज के विचार” के साथ छोड़ा जा सकता है। उनकी फिल्मों में आपको अपनी राय चुनने की आज़ादी होती है। ठीक इसी तरह संजय दत्त का स्टारडम भी कुछ ऐसा ही हैं। उनके जीवन में इतने पड़ाव और उतार-चढ़ाव हैं कि उसे एक फिल्म में रच पाना राजकुमार हिरानी के लिए किसी चुनौती से कम नही था।

 

 

अगर फिल्म संजू की बात करें तो राजकुमार हिरानी ने संजय दत्त की जिंदगी के दो मुश्किल दौर एक नशीले पदार्थों के साथ उनकी जंग और दूसरी 1993 के मुंबई बम धमाकों मेंउलझी ज़िंदगी को दिखाया है। हालांकि, इन सबके बीच कुछ फैंस संजय दत्त की बड़ी बेटी त्रिशाला और उनकी टूटती बिखरती ज़िंदगी के नाव में खड़ी तीन पत्नियों को ‘संजू’ में न देखकर उदास भी हुए।

 

 

पहली पत्नी

संजय की पहली पत्नी का नाम रिचा शर्मा था। संजय की रिचा से मुलाकात फिल्म के मुहुर्त पर हुई थी। कहा जाता है कि संजय ने एक बार रिचा की तस्‍वीर लोकल मैग्जीन में देखी, तब ही वह अपना दिल दे बैठे थे। जब संजय ने रिचा को प्रपोज किया था, उस वक्‍त वह साल 1987 में फिल्म ‘आग ही आग’ की शूटिंग में व्यस्त थीं। रिचा ने उस वक्‍त संजय को कोई जवाब नहीं दिया था। हालांकि, संजय बार-बार उन्हें जवाब देने के लिए फोन करते थे। आखिरकार रिचा ने उन्हें हां कह दिया था। गौरतलब है कि संजय दत्त और ऋचा शर्मा 1987 में शादी के बंधन में बंध गए फिर 1988 में त्रिशला का जन्म हुआ। रिचा को ब्रेन ट्यूमर था, जिसकी वजह से 10 दिसंबर, 1996 को उनकी मौत हो गई।

 


Advertisement

 

बेटी  त्रिशला

मां की मौत के बाद से ही त्रिशला न्यूयॉर्क में अपनी मौसी के साथ रहती हैं। न्यूयॉर्क के ही जॉन जे कॉलेज ऑफ क्रिमिनल जस्टिस से लॉ में ग्रैजुएट हैं। त्रिशला के अपने पिता संजय दत्त के प्रति प्रेम से लबरेज़  भावुक पोस्ट सोशल मीडिया पर देखने को मिलते रहते हैं।

 

 

त्रिशला फिलहाल अपना भविष्य मनोविज्ञान में गहरी दिलचस्पी की वजह से एक साइकोलॉजिस्ट के रूप में देखती हैं और हाल  ही में उन्होंने अपना पीजी की पढ़ाई भी पूरा कर ली है।

 

दूसरी पत्नी

 

 

पहली पत्‍नी के निधन के बाद संजय ने साल 1998 में रिया पिल्लै से दूसरी शादी कर ली। ऐसा कहते हैं कि संजय रिया से बहुत प्यार करते थे लेकिन उनकी यह शादी कामयाब नहीं हो सकी। साल 2005 में दोनों अलग हो गए।

 

तीसरी पत्नी

 

 

दूसरी पत्‍नी से तलाक होने के बाद संजय ने 7 फरवरी 2008 को मान्यता दत्त से शादी कर ली। मान्यता का असली नाम दिलनवाज़ शेख है। दोनों ने गोवा में शादी की थी। 21 अक्टूबर 2010 को संजय के दो जुड़वा बच्चे हुए। वह बॉलीवुड में कुछ फिल्मों में काम भी कर चुकी हैं। अब वह संजय का प्रोडक्शन हाउस संभालती हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement