तीन लाख भारतीय युवाओं को मिलेगी जापान में ट्रेनिंग

Updated on 12 Oct, 2017 at 6:36 pm

Advertisement

भारत और जापान के बीच तकनीकी इंटर्न प्रशिक्षण कार्यक्रम की मंजूरी से भारत के 3 लाख युवाओं को लाभ मिल सकता है। केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मीडिया को इस बारे में जानकारी दी है। देश में बेरोजगारी के मुद्दे पर विपक्ष सरकार को घेरने में लगा है। ऐसे में यह योजना मोदी सरकार के लिए राहत ला सकती है।

धर्मेन्द्र प्रधान अगले 16 अक्टूबर से जापान की यात्रा पर जा रहे हैं। वहां वह भारत और जापान के बीच तकनीकी इंटर्न प्रशिक्षण कार्यक्रम योजना पर हस्ताक्षर कर सकते हैं।

क्या है यह योजना

इस योजना के अंतर्गत भारत पहले से काम कर रहे तीन लाख युवाओं को तीन से पांच साल की अवधि के लिए जापान भेजेगा। जापान में उन्हें ट्रेनिंग दी जाएगी। भारतीय तकनीकी इंटर्न के कौशल प्रशिक्षण का व्यय भार जापान उठाएगा। इन युवाओं को सरकार के कौशल विकास कार्यक्रम के तहत जापान भेजने की योजना है।


Advertisement

केंद्रीय मंत्री प्रधान ने ट्वीट कर जानकारी दी है।

जापान भेजे जानेवाले युवाओं को वहां ट्रेनिंग के साथ-साथ रोजगार के अवसर भी मुहैया कराए जा सकते हैं। जापान अपनी जरूरतों के अनुसार लगभग 50,000 युवाओं को नौकरी भी दे सकता है। जापान में रहकर युवा वहां के पारिस्थितिकी तंत्र में काम करेंगे।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement