इन सांवली लड़कियों ने सफलता के नए प्रतिमान स्थापित किए हैं जो वाकई काबिले-तारीफ है

Updated on 30 Jan, 2018 at 4:30 pm

Advertisement

हम सब जानते हैं कि ‘रंगभेद’ एक नकारात्मक और घटिया सोच है। रंग के आधार पर इंसानों में भेद करना कतई ठीक नहीं है। हालांकि, कई बार नहीं चाहते हुई भी हम इस सोच का हिस्सा बन जाते हैं, जो रंगभेद को पनाह देती हैं। गोरे होने की चाह या फिर गोरे रंग की दुल्हा-दुल्हन से शादी सहित तमाम कोशिशों के पीछे ‘रंगभेद’ ही मूल है। विशेषकर शादी-ब्याह के मामलों में ‘रंग’ का बोलबाला होता है।

रंगभेद के विरुद्ध गांधी, मंडेला से ले कर मार्टिन लूथर किंग तक लड़े, पर ये आज भी बदस्तूर जारी है। किसी न किसी रूप में, कहीं न कहीं हमारे बीच हमारे साथ है। यह अलग बात है कि यह कभी सफलता में आड़े नहीं आता, बशर्ते हौसले बुलंद हों तो!

आइये हम उन सांवली और सफल महिलाओं की यहां चर्चा करते हैं, जिन्होंने अप्रतिम सफलता हासिल की।

सेरेना विलियम्स

 

सेरेना ने लॉन टेनिस की दुनिया में अपना परचम लहराया और आज उनके चाहने वाले दुनियाभर में फैले हुए हैं। इनकी एक झलक पाने के लिए फैन्स की कतारें लग जाती हैं। इन्होंने अपनी प्रतिभा के बल पर वो मुकाम हासिल किया है, जो सोचना भी मुश्किल जान पड़ता है। वीमेन टेनिस एसोसिएशन की रैंकिंग में सेरेना 2002 से लगातार पहले स्थान पर रही हैं।

प्रियंका चोपड़ा

 

 

वर्ष 2000 में मिस वर्ल्ड का ख़िताब जीतकर भारत का नाम रौशन करनेवाली प्रियंका चोपड़ा बेहतरीन अदाकारा के साथ-साथ एक सफल फिल्म निर्मात्री भी हैं। इन्होंने न सिर्फ बॉलीवुड बल्कि हॉलीवुड में भी अपना परचम लहराया है।

ओपराह विनफ्रे

 

यूरोप और अमेरिका में ओपराह विनफ्रे खासी मशहूर हैं। वे जब भारत ताजमहल देखने आईं तो यहां इनकी खूब चर्चा हुई। ओपराह का टेलीविज़न शो ‘दी ओपराह विनफ्रे शो’ अमेरिका का सबसे सफल टेलीविज़न प्रोग्राम रहा है, जिसने पूर्व के सारे रिकॉर्ड ध्वस्त कर दिए।

हैली बेरी

 


Advertisement

हॉलीवुड अभिनेत्री हैली बेरी ने ‘जेम्स बॉन्ड’ और ‘एक्स मेन’ जैसी फ़िल्मों के माध्यम से हॉलीवुड में जाना-पहचाना नाम बन गई। इन्होंने अपनी काबिलियत को साबित किया और रंग को आड़े नहीं आने दिया। आप इनकी प्रतिभा का अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि ये हॉलीवुड की सबसे ज़्यादा मेहनताना पाने वाली एक्ट्रेस हैं। इन्हें ऑस्कर अवार्ड भी मिल चुका है।

स्मिता पाटिल

 

सांवली सुंदरी स्मिता ने बहुत कम समय में अपनी अभिनय क्षमता से बॉलीवुड की सभी तरह की भ्रांतियों को तोड़ दिया। इन्होंने 80 से ज़्यादा हिंदी और मराठी फ़िल्मों में काम किया। आज भी इनकी मिसालें दी जाती हैं।

कर्णम मल्लेश्वरी

वर्ष 2000 के सिडनी ओलंपिक में कर्णम मल्लेश्वरी ने वेट लिफ़्टिंग में कांस्य पदक जीतकर भारत का नाम रौशन किया। भारत इस प्रतियोगिता की शुरुआत में ही बाहर हो जाया करता था, लेकिन इन्होंने पदक जीतकर खुद को साबित किया।

पी वी सिंधु

 

पी वी सिंधु को आज कौन नहीं जनता। बैडमिंटन में देश के लिए पहला मेडल लाने वाली सिंधु ने विश्व पटल पर देश को गर्वित किया। ये अभी इंटरनेशनल रेंक में 3 नंबर पर हैं।

रानी मुखर्जी

 

जब रानी मुखर्जी ने बॉलीवुड में कदम रखा था तो कोई इस बात का अंदाजा नहीं लगा सकता था कि ये टॉप की हिरोइन बनेगी। लेकिन इन्होंने बॉलीवुड में वो स्थान प्राप्त किया जो किसी का भी सपना हो सकता है।

जेनेट जैक्सन

जैक्सन परिवार की सबसे छोटी सदस्य जेनेटसिंगिंग के क्षेत्र में लगातार 30 सालों से कार्यरत हैं और आज आइडल के रूप में स्थापित हो गई हैं।

रिहाना

 

अपनी गायकी से हॉलीवुड को हिलाने वाली रिहाना आज एक सफ़ल अभिनेत्री और लेखिका के रूप में भी जानी जाती हैं। इनकी सफलता का अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि उनके नाम 8 ग्रैमी अवार्ड, 12 बिलबोर्ड म्यूज़िक अवार्ड, 12 अमेरिकन म्यूज़िक अवार्ड और 8 पीपुल्स चॉइस अवार्ड हैं।

एक लम्बी फेहरिस्त है सफल लोगों की, जिन्होंने रंग की परवाह किए बगैर अपने क्षेत्र में उल्लेखनीय कामयाबी हासिल की। लोगों की सोच बदले न बदले, हौसला बुलंद हो तो रंग आड़े नहीं आता!

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement