बेहद अजीबो-गरीब हैं इन देशों के कानून, महिलाओं के साथ ज्यादती करने की इजाजत देती है सरकार

6:53 pm 11 Jun, 2018

21वीं सदी में हर कहीं महिलाओं को सशक्त करने की बातें हो रही हैं। समाज में महिलाओं को उचित और सम्मानजनक स्थान देने के लिए दुनियाभर में लोग आगे आ रहे हैं। भारत सहित कई देशों में महिलाओं के समुचित विकास के लिए नित नए प्रयास किए जा रहे हैं। बावजूद इसके महिलाओं के साथ ज्यादती के कई मामले समाज को आए दिन हमे झकझोरते रहते हैं।

एक ओर जहां महिलाओं के अधिकारों को लेकर दुनियाभर में अभियान चलाए जा रहे हैं, तो वहीं कुछ ऐसे देश भी है जहां अभी भी सामाजिक मूल्य पूरी तरह छिन्न-भिन्न हैं। इन देशों में महिलाओं पर कई प्रकार की पाबंदियां लगी हुई हैं। यहां न तो महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराधों में किसी तरह की तत्परता दिखाई जाती है और न ही कोई कड़ी कार्रवाई होती है। इतना ही नहीं, कई देशों का निजाम तो वहां के पुरुषों को महिलाओं की जान तक ले लेने की आजादी देता है। ये वो देश हैं, जहां महिलाएं जरा भी सुरक्षित नहीं हैं।

 

महिलाओं को किया जा सकता है किडनैप

माल्टा का कानून कहता है कि यदि उसके देश का कोई पुरुष किसी महिला का अपहरण विवाह के उद्देश्य से करता है तो इस अपराध के लिए उसे कोई सजा नहीं होगी। इस देश में महिलाओं के साथ ज्यादती के कई मामले आए दिन सामने आते रहते हैं।

 

यहां विरासत पर महिलाओं का कोई हक नहीं

ट्यूनिशिया में महिलाओं का अपने पति की संपत्ति पर पूरा हक नहीं होता। वहां बेटियों को बेटों के मुकाबले आधी संपत्ति दी जाती है।

 

जायज है ऑनर किलिंग

मिस्त्र और सीरिया जैसे देशों में यदि कोई पुरुष ऑनर किलिंग के नाम पर किसी महिला को मार देता है, तो सरकार इसके लिए उसे ज्यादा सजा नहीं देती।

 

 

गवाही नहीं मानी जाती

ईरान में यदि कोई महिला शारीरिक शोषण का शिकार होती है तो उसकी स्थिति काफी दयनीय हो जाती है। कोर्ट में पीड़ित महिला की गवाही को इतनी अहमियत नहीं दी जाती।

 

पति से कम है पत्नी के पास अधिकार

माले में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं के पास अधिकार काफी कम होते हैं। इस देश में पुरुष को ही घर का मुखिया माना जाता है और महिला को उसके सारे आदेशों का पालन करना होता है।

 

नौकरी करने पर पाबंदी

कैमरून समेत दुनिया के 18 देशों में महिलाएं अपने पति की अनुमति के बगैर नौकरी नही कर सकतीं हैं। इन देशों में अगर पति चाहेगा तो ही पत्नी नौकरी पर जा सकती है।

 

महिलाओं को पीटने का हक है यहां

दुनिया के कई देशों में घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं के लिए कोई कानून नहीं है। इन देशों में अगर पति अपनी पत्नी को पीटता है तो उस पर कोई कार्रवाई नहीं की जाती ।

 

स्विमिंग पूल या वर्कआउट

सऊदी अरब में महिलाओं को सार्वजनिक स्विमिंग पूल इस्तेमाल करने की आजादी नही है। इस देश में महिलाओं के लिए अलग से  स्वीमिंग पूल बनाए गए हैं। केवल महिलाएं ही इनका इस्तेमाल कर सकतीं हैं। ये भी उन देशों में शुमार है, जहां महिलाओं के साथ ज्यादती होती है।

 

पुरुषों से बात करने पर है पाबंदी

किसी भी महिला को सऊदी अरब में पुरुषों से ज्यादा देर तक बात करने की आजादी नही हैं। यहां पुरुषों और महिलाओं के लिए कई सार्वजनिक स्थानों को अलग-अलग हिस्सों में बांटा गया है।

 

आपके विचार