ये हैं भारत की एकमात्र महिला टनल इन्जीनियर, बेंगलुरू मेट्रो में निभाई है अहम भूमिका

author image
Updated on 1 May, 2017 at 12:13 pm

Advertisement

जिन क्षेत्रों में पुरुषों का वर्चस्व है, महिलाएं उन क्षेत्रों में बखूबी आगे बढ़ रही हैं। बेंगलुरू में रहने वाली 35 वर्षीया एनी सिन्हा रॉय भारत की पहली और एकमात्र टनल इन्जीनियर हैं। उन्हें दक्षिण भारत में मेट्रो रेल के लिए बन रही पहली सुरंग को विकसित करने का श्रेय दिया जाता है।

इस रिपोर्ट के मुताबिक, शहर में बन रहे मेट्रो परियोजना में 4.8 किलोमीटर ईस्ट-वेस्ट अंडरग्राउन्ड टनल के विकास में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

उत्तर कोलकाता के एक मध्यमवर्गीय परिवार से संबंध रखने वाली एनी नागपुर विश्वविद्यालय से मेकेनिकल इन्जीनियरिंग की पढ़ाई के बाद मास्टर्स करना चाहती थीं, लेकिन पिता की असामयिक मौत के बाद उन्हें अपने परिजनों की सहायता के लिए नौकरी करनी पड़ गई। वर्ष 2007 के अक्टूबर महीने में एनी ने दिल्ली मेट्रो के एक कॉन्ट्रेक्टर सेनबो के साथ नौकरी शुरू की।

बाद में वर्ष 2009 में वह चेन्नई मेट्रो से जुड़ गईं और वर्ष 2014 में छह महीने के लिए दोहा गईं। मई 2015 से वह बेंगलोर मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (BMRC) के साथ असिस्टेन्ट इन्जीनियर के तौर पर जुड़ीं हैं।


Advertisement

 

कन्स्ट्रक्शन साइट पर अपने पहले दिन के अनुभव के बारे में टाइम्स ऑफ इन्डिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहाः

“वहां करीब 100 पुरुष थे, जिनमें अधिकतर मजदूर थे और नाममात्र के ही इन्जीनियर। उन्हें लगा था कि मैं अधिक दिनों तक नहीं टिक सकूंगी। वहां कोई टॉयलेट नहीं था और न ही बैठने की जगह। हर तरफ मलबा ही मलबा फैला हुआ था।”



आज हालत यह है कि वह दिन के कम से कम 8 घंटे सुरंगों में गुजारती हैं। बेंगलुरू में तो उन्होंने अकेले ही गोदावरी (टनल बोरिंग मशीन) को हैन्डल कर लिया।

एनी जिस काम में हैं, इसे आम तौर पर पुरुषों का क्षेत्र माना जाता है, लेकिन वह चुनौतियां लेती हैं। यहां तक कि जब वह दोहा जा रही थीं, तब उनका वीसा आवेदन तीन बार खारिज किया गया था।

 

एनी कहती हैंः

“कतर ने मेरा वीसा आवेदन तीन बार खारिज कर दिया। वे दरअसल, नहीं चाहते थे कि कोई अविवाहित महिला आए और यहां काम करे। लेकिन चौथी बार मैं उनसे लड़ पड़ी।”

एनी कहती हैं कि भारतीय महिलाओं को उन क्षेत्रों में आगे आना चाहिए, जिसे “मेल डॉमिनेटेड” माना जाता है। इससे वर्जनाएं टूटेंगी।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement