‘शोले’ में ठाकुर के हाथों मारा गया था ‘गब्बर’ लेकिन फिल्म में दिखाया ही नहीं गया

author image
Updated on 1 Apr, 2016 at 11:48 am

Advertisement

अगर व्यक्तिगत तौर पर मुझसे पूछा जाए कि किस खलनायक ने मुझे वाकई डराया है। तो निःसंकोच आपकी ही तरह मेरा भी यही जवाब होगा, शोले का ‘गब्बर सिंह’।

15 अगस्त 1975 को रिलीज हुई फिल्म शोले जबर्दस्त पटकथा और डायलॉग की वजह से सर्वकालिक महान फिल्मों में एक मानी जाती है। संजीव कुमार और अमजद खान से लेकर अमिताभ और धर्मेन्द्र ने अपने अभिनय से फिल्म को यादगार बना दिया। उम्दा संगीत और हेलन पर फिल्माया गए गाना “महबूबा महबूबा” का तो क्या कहना। सांभा और कालिया जैसे किरदार आज भी याद किए जाते हैं। पर डकैतों के सरदार गब्बर सिंह बने अमजद के संवादों की दमदार अदायगी इस फिल्म को सिनेमा जगत के अलग स्तर पर ले जाती है।

लेकिन क्या आपको पता है कि फिल्म के अंत में गब्बर बने अमजद खान को ठाकुर मार डालता है?


Advertisement

दरअसल, हकीकत में इस फिल्म का अंत कुछ और ही था। इसके अंत में गब्बर सिंह मर जाता है। हालांकि, इस दृश्य को बाद में संपादित कर दिया गया था। और बदले में ठाकुर, गब्बर को पुलिस को सौंपते दिखाया गया था। चूंकि, उस समय देश में आपातकाल का दौर था। इस वजह से वास्तविक अंत को बदल दिया गया था।

तो देखिए गब्बर की मौत का अनदेखा विडियो। यह शोले का वास्तविक अंत है, जो आपने नहीं देखा होगा।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement