इस राजा के अंतिम संस्कार पर खर्च हुए 600 करोड़ रुपए, प्रजा मानती थीं भगवान राम के वंशज

Updated on 29 Oct, 2017 at 7:11 pm

Advertisement

थाइलैंड के राजा पूमीपोन अदून्यदेत के दाह संस्कार में 600 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। अंतिम संस्कार की तैयारी पिछले एक साल से चल रही थी। भगवान राम के वंशज माने जाने वाले राजा पूमीपेन की मौत 13 अक्टूबर 2016 में ही हो गई थी, जबकि उनका दाह संस्कार बैंकाक में अब किया गया है।

राजा पूमीपेन के निधन के बाद देश में एक साल का राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया गया था। इसी समय से उनके दाह-संस्कार की तैयारियां भी चल रही थी। राजा के सम्मान में 500 प्रतिमाएं बनवाई गई। बौद्ध परंपरा को मानते हुए उनका शव सोने के रथ पर रखकर दाह-संस्कार के लिए ले जाया गया।

bbc


Advertisement

राजा पूमीपोन कला-प्रेमी थे। उन्हें फोटोग्राफी, पेटिंग सहित सैक्सोफोन बजाना और गीत लिखना बहुत पसंद था। 5 दिंसबर 1927 को अमेरिका के मैसाचुसेट्स में पैदा होने वाले पूमीपोन जब मात्र 2 साल के थे, उनके पिता माहिडोल का देहांत हो गया था। उनकी शिक्षा-दीक्षा स्विटजरलैंड में हुई थी। महज 18 साल की उम्र में पूमीपेन थाइलैंड के राजा बन गए थे। लोगों में उनके प्रति घोर आस्था थी।

भगवान मानती थी प्रजा

पूमीपोन दो सौ साल पुराने चकरी राजवंश के 9वें राजा थे। वह दुनियाभर में सबसे लंबे समय तक राज करने वाले राजा के तौर पर जाने जाते रहे हैं। उनके 70 साल लंबे राज में देश में 12 प्रधानमंत्री बदले। उनकी छवि एक पिता के रूप में थी। हालांकि, वह संवैधानिक रूप से बनाए गए राजा थे और उनकी शक्तियां भी सीमित थीं, लेकिन थाईलैंड में लोगों ने उन्हें भगवान का दर्जा दिया था।

राजा के अंतिम संस्कार के लिए 185 फीट ऊंचा सोने जैसा चमकता श्मशान बनाया गया था।

चिता तक की दो किलोमीटर की दूरी तीन घंटे में पूरी हुई। जैसे ही राजा का शव पहुंचा, तो तोपों की सलामी दी गई। यह अब तक का सबसे महंगा अंतिम संस्कार है।

अंतिम संस्कार में इतना खर्च अब आपको चौंकाने वाला नहीं लग रहा होगा।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement