रंजिश की वजह से हुई थी NIA अधिकारी तंजील अहमद की हत्या

author image
6:48 pm 12 Apr, 2016

Advertisement

NIA के वरिष्ठ अधिकारी तंजील अहमद की हत्या आपसी रंजिश की वजह से हुई थी। इस बात की जानकारी देते हुए मंगलवार को बरेली जोन के आईजी विजय सिंह मीणा ने बताया कि इस हत्याकांड की गुत्थी को सुलझा लिया गया है।

इस चर्चित हत्याकांड के दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। गिरफ्तार आरोपियों में एक रेयान तंजील अहमद का भांजा है। दोनों ने पूछताछ के दौरान हत्याकांड में शामिल होने की बात मान ली है। हालांकि, इस हत्याकांड का मुख्य आरोपी मुनीर अब भी फरार है।

मेरठ के पुलिस लाइन में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए आईजी विजय सिंह मीणा ने बताया कि तंजील अहमद की हत्या को सुनियोजित तरीके से अंजाम दिया गया था।

आईजी मीणा के मुताबिकः

“NIA अधिकारी तंजील अहमद की हत्या पारिवारिक रंजिश का नतीजा थी। पूछताछ में तंजील के बहनोई के भतीजे आरोपी रेयान ने बताया है कि तंजील ने उसकी कई मौकों पर मदद नहीं की थी। इस बात से वह काफी नाराज था।”


Advertisement

आईजी मीणा ने कहा कि तंजील का गिरफ्तार रिश्तेदार रेयान उनसे नाराज था, क्योंकि तंजील ने कई मौकों पर उसके हितों की अनदेखी की थी और उसकी मदद नहीं की थी। उन्होंने कहा कि इस घटना के मुख्य आरोपी मुनीर ने दूसरे आरोपी अपने साथी जैनुल को पिस्टल और रिवॉल्वर दी थी।



रिवॉल्वर मिलने के बाद जैनुल तीसरे आरोपी रेयान के साथ उस गेस्ट हाउस में रेकी करने पहुंचा था, जहां तंजील अहमद शादी में शामिल होने गए थे। यहीं से जैनुल और रेयान ने उनका पीछा करना शुरू किया था।

बाद में योजना के मुताबिक, एक निर्माणाधीन पुलिया के नजदीक इन दोनों ने तंजील की कार को ओवरटेक कर रोक लिया। वहां पहले मौजूद मुनीर ने तंजील पर गोलियां दाग दीं।

आईजी मीणा के मुताबिक, फरार मुख्य आरोपी मुनीर के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी कर दिया गया है।

गौरतलब है कि तंजील अहमद एनआईए के वरिष्ठ अधिकारियों में एक थे। वह पठानकोट हमले जैसे बड़े मामलों की जांच में शामिल टीम से जुड़े थे। पहले आशंका जताई जा रही थी कि उनकी हत्या आतंकवादियों ने की थी।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement