भारत पहुंची टेल्गो ट्रेन, मिलेंगी प्लेन जैसी सुविधाएं

author image
Updated on 25 May, 2016 at 1:59 pm

Advertisement

स्पेन निर्मित टेल्गो ट्रेन का भारत में पहला ट्रायल रन 29 मई से बरेली-मुरादाबाद रेल मार्ग पर होने जा रहा है। जिसके लिए  ट्रायल के लिए डिब्बे भारत आ चुके है।

इस ट्रेन का पहला ट्रायल 115 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से किया जाएगा। इसकी अधिकतम रफ़्तार 200 से 250 किलोमीटर तक है। पहले ट्रायल के बाद, अगला ट्रायल मथुरा-पलवल और दिल्ली-मुंबई रूट पर 180 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से होगा।

ये हैं खासियत:

टेल्गो ट्रेन में सीटें विमान की तरह होती है।

इसमें हर यात्री के लिए टेबल, रीडिंग लाइट, ऑडियो, एंटरटेनमेंट कंट्रोल जैसी सुविधाएं उपलब्ध हैं।

टेल्गो ट्रेन के हर कोच में नहाने की व्यवस्था, रेस्टोरेंट और कैफेटेरिया हैं।

अगर बात करे इसके इंटीरियर की तो तापमान चाहे 50 डिग्री हो या माइनस 20 डिग्री का, इसके इंटीरियर पर मौसम का कोई असर नहीं पड़ता।

टेल्गो ट्रेन के कोच राजधानी और शताब्दी जैसी रेलों के कोच (एलएचबी) की तुलना में बेहद सस्ते हैं। इनके रखरखाव पर भी कम खर्चा आता है।

टेल्गो ट्रेन कई मामलों में जापान की हाई स्पीड ट्रेनों से भी आगे है। जापान की हाई स्पीड रेल के लिए महंगे ट्रैक की जरूरत होती है, जबकि टेल्गो ट्रेन को भारत में बने ट्रैक में थोड़ा-बहुत बदलाव करके चलाया जा सकता है। वर्तमान में टेल्गो ट्रेन एशिया और अमेरिका में कई जगहों पर चल रही है।


Advertisement

रेलवे मंत्री सुरेश प्रभु ने पिछले दिनों संसद में बताया था कि टेल्गो ट्रेन के ट्रायल का मकसद दिल्ली-मुंबई के बीच लगने वाले समय में 5 घंटे की कटौती करना है। दिल्ली से मुंबई का सफर ट्रेन से तय करने में अभी करीबन 17 घंटे का समय लगता है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement