यह देश मंगा रहा है दूसरे देशों से कचरा, वजह जानकर हैरान होंगे आप

author image
Updated on 12 Dec, 2016 at 2:22 pm

Advertisement

भारत में जब इस बात पर बहस छिड़ी है कि हम रोज निकल रहे लाखों टन कचरे का क्या करें, आपको जानकर हैरत होगी कि यूरोप का देश स्वीडन दूसरे देशों से कचरा मंगा रहा है।

दरअसल, इस देश में कचरा खत्म हो गया है और यहां के रिसाइकलिंग प्‍लांट्स, जिससे की बिजली बनती है, को चालू रखने के लिए इसकी जरूररत है।

स्वीडन एक ऐसा देश है जहां बड़े पैमाने पर कचरे की रिसायक्लिंग कर बिजली बनाई जाती है। यहां राष्ट्रीय रिसाइकलिंग नीति बनी है, जिससे के कचरे का प्रसंस्करण आसान है। बिजली की कुल खपत का आधा हिस्सा कचरे से ही आता है।

स्वीडन दुनिया के उन देशों में शामिल है जहां जैविक ईंधन के इस्‍तेमाल पर कड़ा टैक्‍स चुकाना पड़ता है। कचरा प्रसंस्करण पर यहां इतने शानदार तरीके से काम होता है कि घरों से निकले कुल कचरे का केवल एक प्रतिशत कचरा क्षेत्र में फेंका गया।

हाल के दिनों में कचरा खत्म होने की वजह से दिक्कतें बढ़ी हैं। यही वजह है कि अब स्वीडन ब्रिटेन जैसे देशों से कचरे का आयात कर रहा है।


Advertisement

स्वीडन में पर्यावरण और प्रकृति को लेकर लोग बेहद सतर्क हैं। यहां की सरकार लंबे समय से लोगों को कचरा बाहर नहीं फेंकने के लिए जागरूक करती रही है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement