क्रिकेट जगत का यह सितारा अस्पताल में दूसरे बच्चे से बदल दिया गया था

author image
Updated on 10 Jul, 2017 at 1:08 pm

Advertisement

‘लिटिल मास्टर’ के नाम से जाने जानेवाले सुनील गावस्कर का नाम दुनिया के महानतम बल्लेबाजों की सूची में अंकित है। 5 फुट 5 इंच के कद वाले इस पूर्व भारतीय बल्लेबाज का कद क्रिकेट जगत में शीर्ष पर रहा है। उन्होंने क्रिकेट में जो योगदान दिया है, वो अतुलनीय है।

आज गावस्कर अपना 68 वां जन्मदिन मना रहे हैं। अपने समय में कई कीर्तिमान स्थापित कर चुके गावस्कर का जन्म मुंबई में 10 जुलाई 1949 को हुआ था।

गावस्कर दुनिया के पहले बल्लेबाज थे, जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 10,000 रन बनाए। गावस्कर ने टेस्ट में अपने 30 से ज्यादा शतकों के साथ डॉन ब्रैडमैन के बनाए 29 टेस्ट शतकों के कीर्तिमान को भी पीछे छोड़ दिया था। यही नहीं, उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ उस जमाने में सर्वाधिक टेस्ट सेंचुरी जड़ने का रिकॉर्ड बनाया था।

टीम इंडिया ने गावस्कर की कप्तानी में कई महतवपूर्ण जीत हासिल की, जिनमें ‘एशिया कप’ एवं ‘बेसन एंड हेजेस विश्वकप’ प्रमुख है।


Advertisement

‘इंडियन क्रिकेट क्रिकेटर ऑफ द इयर’, ‘आईसीसी क्रिकेट हॉल ऑफ फेम’ जैसे सम्मानों से नवाजे गए सुनील गावस्कर भारतीय क्रिकेट के लिए वरदान बने।

लेकिन क्या आपको पता है कि अगर सुनील गावस्कर क्रिकेटर नहीं होते तो शायद वह संभवत: मछुआरे होते। जी हां, ये किस्सा जुड़ा है सुनील गावस्कर के जन्म से। किस्सा उस वक्त का है जब सुनील गावस्कर के पैदा होने पर, उनके घरवाले उन्हें अस्पताल में देखने आए। एक-एक करके सबने नन्हे सनी को अपने हाथों में लिया। ऐसे में उनके चाचा ने भी उन्हें गोद में खिलाया और उनके कान के पास एक छोटा सा तिल देखा। अगले दिन भी जब वह अस्पताल अपने भतीजे से मिलने पहुंचे तो वह चौंक गए, क्योंकि यह वह बच्चा नहीं था, जिसे उनके चाचा खिला रहे थे। उसके कान के पास कोई तिल नहीं था।

चाचा को पता लग गया कि ये उनका भतीजा नही है। उन्होंने तुरंत अस्पताल कर्मचारियों को इसकी सूचना दी। जांच में पता चला कि नन्हे सनी मछुआरे के बच्चे से बदल दिए गए थे। नर्स से दवा देते वक्त गलती से बच्चा बदल गया था।

अगर सुनील गावस्कर के चाचा सतर्क नहीं होते तो सोचिए कि सुनील गावस्कर आज मछुआरे होते और भारतीय क्रिकेट का एक महान सितारा देश को शायद ही मिलता।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement