इस बार होगी झमाझम बारिश, टूटेगा पिछले 22 सालों का रिकॉर्ड

author image
5:49 pm 26 May, 2016

Advertisement

भारत में 1994 के बाद इस साल सबसे अधिक बारिश होने का अनुमान है।

प्राइवेट एजेंसी स्काईमेट वेदर सर्विसेज के मुताबिक, जून से सितंबर चलने वाले मानसून के दौरान 109 फीसदी बारिश होने की संभावना है।

1994 के बाद यह पहली बार है, जब कोई मौसम एजेंसी 109 फीसदी बारिश का अनुमान लगा रही हो। इसी के चलते अच्छी बारिश के कारण मक्का, धान और तिलहन की खेती बढ़ने की उम्मीद की जा रही है। ये सब संभव होगा, ‘ला-नीना’ की वजह से।


Advertisement

monsoon

‘ला नीना’ प्रशांत महासागर की एक प्राकृतिक धारा है, जिसका असर दुनिया भर को प्रभावित करता है। ‘ला नीना’ के प्रभाव से तापमान में कमी आती है।

वहीं, भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, देश में सामान्य के मुकाबले 106 फीसदी बारिश होने का अनुमान है।

monsoon

2013 के बाद पहली बार मौसम विभाग ने देश में सामान्य से अधिक बारिश का अनुमान लगाया है।

monsoon

उम्मीद की जा रही है कि इस साल बेहतर मानसून रहने से आर्थिक विकास होने में मदद मिलेगी। इसके साथ ही देश में पानी की समस्या से भी काफी हद तक निजात मिलेगी।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement