श्रीलंका की इस गुफा में आज भी मौजूद है रावण का मृत शरीर!

Updated on 9 Apr, 2018 at 5:20 pm

Advertisement

नवरात्र के दसवें दिन भगवान राम ने रावण का वध कर विजय प्राप्त की थी, जिसे विजयदशमी के रूप में मनाया जाता है। पौराणिक कथाओं में इस बात का उल्लेख है कि रावण का वध करना आसान नहीं था। इसलिए भगवान को खुद मानव अवतार में आना पड़ा। रामायाण से जुड़ी चीजें लंबे समय से शोध का विषय रही हैं। हालांकि, अब भी रामायण काल के इतिहास से जुड़ी कई ऐसी रहस्यमयी बातें हैं, जिन पर से अब तक परदा नहीं उठ सका है। बहरहाल, हम हाल में हुए एक शोध पर चर्चा करने जा रहे हैं।

रामायण तथा अन्य पुराणों में इस बात का उल्लेख मिलता है कि भगवान राम ने रावण का वध कर माता सीता को लंका से मुक्त कराया था। हालांकि, इस बात का कहीं उल्लेख नहीं है कि रावण की मौत के बाद उसके शव के साथ क्या हुआ।

एक हालिया रिर्सच में ऐसी चौंकाने वाली बात सामने आई है जिसमें ये कहा गया है कि रावण के वध के बाद उसका अंतिम संस्कार नहीं हुआ, बल्कि उसके शव को एक गुफा में सुरक्षित रखा गया था। यह शोध श्रीलंका के पर्यटन मंत्रालय व इंटरनेशनल रामायण रिसर्च सेंटर के तत्वावधान में किया गया है।

 

इस शोध में रावण के शव को एक गुफा में रखने की बात कही गई है।

 

 

शोध के मुताबिक, श्रीलंका में रैगला के जंगलों के बीचों बीच स्थित एक विशालकाय पहाड़ी है, जहां रावण तपस्या किया करता था। इसी पहाड़ी में एक गुफा बनी है, जहां दशानन रावण का मृत शरीर रखा हुआ है। रैगला के इन जंगलों में बनी रावण की यह गुफा 8 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित है।


Advertisement

 

इस शोध के लिए श्रीलंका में करीब 50 ऐसे स्थानों की खोज की गई है, जिसका उल्लेख रामायण काल में मिलता है। इन स्थलों के पुरातात्विक और ऐताहासिक महत्व  की खोज श्रीलंका में पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से किया गया है।

 

 

 

गौरतलब है कि श्रीलंका के स्थानीय लोगों का भी मानना है कि आज भी रावण का मृत शरीर श्रीलंका की धरती पर मौजूद है, जिसे सुरक्षित कर एक गुफा में रखा गया है। श्रीलंका समेत भारत में भी कई ऐसी जगहें हैं, जहां आज भी लंकाधिपति रावण की पूजा की जाती है। श्रीलंका में अब भी रामायण काल के कई ऐतिहासिक स्थल मौजूद हैं।

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement