दक्षिण के इस अभिनेत्री की ज़ुबान नहीं, प्रतिभा बोलती है

Updated on 5 Nov, 2017 at 6:56 pm

Advertisement

जब आप पूरी शिद्दत से अपने सपनों को पूरा करने की कोशिश करते हैं तो कोई शारीरिक कमी भी उसे रोक नहीं पाती। दक्षिण की अभिनेत्री अभिनया आनंद का नाम हिंदी सिनेमा के शौकीन लोगों के लिए भले ही नया हो, लेकिन जब आप इस अभिनेत्री के बारे में जानेंगे तो यकीनन इनकी प्रतिभा के कायल हो जाएंगे। अभिनया अपने माता-पिता के लिए स्पेशल चाइल्ड है, इसलिए नहीं क्योंकि वो बचपन से ही बोल और सुन नहीं पाती, बल्कि इसलिए क्योंकि इस कमी के बावजूद छोटी उम्र से ही उनमें अभिनय की प्रतिभा झलकने लगी थी।

पहली बार अभिनया को देखने पर किसी को पता नहीं चलता कि मासूम चेहरे वाली ये लड़की बोल और सुन नहीं सकती। इस कमी के बावजूद उनकी गजब कि अभिनय क्षमता ने लोगों को उनका कायल बना दिया है। आज दक्षिण भारतीय सिनेमा का जाना-माना नाम बन चुके अभिनया का जन्म 13 नवंबर 1991 में कर्नाटक के कडालुर जिले मे हुआ था। उनके पिता भी फिल्म कलाकार थे।

अभिनया को जन्म से ही गंभीर समस्याएं थे, लेकिन कई सालों तक चली थेरेपी और ट्रेनिंग के बाद उनकी समस्या काफी हद तक कम हो गई है। उनकी एक बड़ी सर्जरी भी गई है जिसके बाद कान में मशीन लगाकर वह सुन सकती हैं।

जन्म से मिली शारीरिक कमी को अभिनया ने कभी अपने सपनों के बीच नहीं आने दिया। छोटी उम्र से ही उन्होंने विज्ञापनों के लिए मॉडलिंग शुरू कर दी। अभिनया के अभिनय क्षमता को उनके पिता ने ही पहचाना और उसे प्रोत्साहित भी किया।


Advertisement

अपने एक्टिंग और मॉडलिंग के सपने को पूरा करने के लिए अभिनया ने 10वीं के बाद पढ़ाई छोड़ दी। किशोरावस्था में ही उन्होंने अंग्रेज़ी व सांकेतिक भाषा में लिप रिडिंग में महारत हासिल कर ली थी। वह अपने संवाद अंग्रेज़ी में लिखती हैं और मां की मदद से अपनी स्क्रिप्ट की प्रैक्टिस करती हैं।

सेट पर उनके साथ कलाकार भी उनका पूरा सहयोग करते हैं। हैरानी की बात तो ये है कि टीनेज से ही फिल्म का अधिकांश हिस्सा वो बिना रिटेक के ही पूरा कर लेती हैं। अभिनया ने 17 साल की उम्र में ही फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखा. 2009 में उन्होंने फिल्म नाडोडिगल से डेब्यू किया। इस फिल्म के लिए उन्हें बेस्ट फीमेल डेब्यू का फिल्मफेयर (साउथ) अवॉर्ड भी मिला और बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस के लिए विजया अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया।

फिल्म में उनकी आवाज़ डब की गई थी, बावजूद इसके उनका अभिनय इतना शानदार था कि नाडोडिगल फिल्म की कन्नड़ और तेलगू रीमेक में भी उन्होंने अभिनय किया और उसके लिए उन्हें बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड भी मिला।

इसके बाद से अभिनया ने कई तमिल, तेलगू, कन्नड़ और मलयालम फिल्मों में काम किया। अभिनय के साथ ही उनकी डांसिंग स्किल भी कमाल की है। अपनी ज़बर्दस्त एक्टिंग और डांसिंग स्किल की वजह से उन्हें 2015 में फिल्म शमिताभ से बॉलीवुड में डेब्यू का मौका मिला। इतना ही नहीं, जल्द ही उनकी प्रतिभा को मशहूर आसामी फिल्ममेकर और म्यूज़िक कंपोज़र रूपम सरमह (Rupam Sarmah) ने पहचाना और अपनी आने वाली अंतर्राष्ट्रीय फिल्म पॉसिब्लिटी इन डिज़ैब्लिटी में लीड रोल के लिए सिलेक्ट किया है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement