Advertisement

96 साल की मां को घर में बंद कर छुट्टी मनाने गया बेटा, बेटी ने बचाई जान

author image
2:33 pm 1 Nov, 2017

Advertisement

मां-बाप अपने बच्चों को पढ़ा लिखाकर इस काबिल बनाते कि है वो अपने पैरों पर खुद खड़ा हो जाए और बुढ़ापे में उनका सहारा बनें, लेकिन जब वही बच्चे उनके अरमानों का गला घोट देते हैं, तब क्या। जिन्हें पाल पोसके बड़ा किया, वही पराए लोगों जैसा बर्ताव करने लगते हैं। उन मां-बाप के लिए ये पीड़ा किसी अधमरी मौत जैसी होती है।

ऐसा ही एक घटना कोलकाता के आनंदपुर में घटित हुई है, जिसने रिश्तों के विश्वास को ताड़-ताड़ कर दिया है।

दरअसल, यहां एक बेटा अपनी 96 साल की मां को घर में बंद करके अपनी बीवी और बच्चों के साथ अंडमान और निकोबार छुट्टियां मनाने चला गया।

इस घटना का पता तब चला जब वृद्धा सबिता नाथ की बेटी उनसे मिलने अपने भाई के घर पहुंची। बेटी ने देखा कि घर के बाहर से ताला लगा हुआ है और अन्दर से आवाजें आ रहे हैं। ऐसे में उन्होंने पुलिस को तुरंत सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंची और जब घर का दरवाजा तोड़ा तो देखा कि वृद्धा बिस्तर पर लेटी हुई थीं।

आरोपी बिकास बैंक कर्मचारी है। पुलिस ने बैंक जाकर जब बिकास के बारे में पूछताछ की तो पता चला कि वह छुट्टियां मनाना के लिए गया हुआ है।

वृद्धा का आरोप है कि जब वह सो रही थी तब उनका बेटा कमरे का दरवाजा बाहर से बंद करके चला गया। जब वह उठी तो उन्होंने देखा कि घर पर कोई नहीं था। उनके पास कोई ऐसा साधन भी नहीं था, जिससे वह किसी से संपर्क कर पातीं। वहीं, उनके पास इतनी भी ताकत नहीं थी वह टॉयलेट तक जा सकें।

old

सांकेतिक तस्वीर staticflickr


Advertisement

उनके पास खाने के लिए थोड़े से बिस्कुट के सिवाए और कुछ नहीं था। उन्होंने पड़ोसियों को आवाज देकर खाना मांगा। दरवाजा बाहर से बंद था, इसलिए पड़ोसियों ने दीवार के ऊपर से खाना फेंक कर दिया।

अपनी मां को इस हालत में देख बेटी को भरोसा ही नहीं हो रहा है कि उसका भाई उम्र के इस पड़ाव में मां के साथ इस तरह का बर्ताव कर सकता है। वृद्धा के छोटे बेटे ने कहा- “हम कल्पना भी नहीं कर सकते कि बिकास ऐसा कर सकता है।”

अब इस मामले की छानबीन में पुलिस जुटी है कि बिकास ने घर लॉक जान-बूझकर कर बंद किया या गलती से उससे ऐसा हो गया।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement