45 साल से पाकिस्तान की जेल में कैद है फौजी पति, हर साल पत्नी रखती है करवा चौथ का व्रत

author image
Updated on 20 Oct, 2016 at 4:45 pm

Advertisement

इस महिला की करवा चौथ की कहानी जो सुन रहा है उसका दिल भर आ रहा है। यह महिला लगातार 45 साल से करवा चौथ का कठिन व्रत बस इस आस से रखते आ रही है कि सांस छूटने से पहले आख़िरी बार पति को देख लें। बीएसएफ जवान की पत्नी की करवा की यह कहानी बहुत ही दुःख भरी है।

फरीदकोट जिले के गांव टहिणा निवासी बीएसएफ जवान सुरजीत सिंह पिछले 45 सालों से पाकिस्तान की जेल में बंद हैं। उनका दीदार करने के लिए उसकी पत्नी अंगरेज कौर की आंखें पथरा जरूर गई हैं, लेकिन उन्होंने पति की सकुशल वापसी की उम्मीद नहीं छोड़ी है।

वह हर साल करवा चौथ के पर्व पर अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रख रही हैं। हालांकि, पिछले सालों की तरह इस बार भी उन्हें अपने चांद का दीदार नहीं हो पाया। हर सुहागन की तरह अंगरेज कौर की भी कुछ इच्छा है। वह बताती हैंः

“हर सुहागन की इच्छा रहती है कि उसे करवा चौथ के पर्व पर पति का दीदार जरूर हो। मेरी इच्छा पर भले ही ग्रहण लगा हुआ है, लेकिन उम्मीद की किरण सांस थमने तक जारी रहेगी।”

इस साल भी नहीं मिला दीदार, राह देखती रह गयी आंखें


Advertisement

आपको बता दें बीएसएफ जवान सुरजीत सिंह 1971 की भारत-पाक युद्ध के दौरान कश्मीर के छंब सेक्टर से अचानक गायब हो गए थे। युद्ध समाप्त होने के बाद 1972 में बीएसएफ ने सुरजीत सिंह को शहीद करार दे दिया और परिवार को उनकी मौत का प्रमाणपत्र भी भेजा।

इस घटनाक्रम के 34 साल बाद पाकिस्तान से रिहा होकर भारत लौटे मलेरकोटला के खुशी मोहम्मद व फिरोजपूर के सतीश कुमार ने जब परिवार को सुरजीत सिंह के जिंदा होने की खबर दी, तो उनकी खुशी का कोई ठिकाना न रहा।

पाक जेल में बंद बीएसएफ जवान की पत्नी ने नहीं छोड़ी उम्मीद

इसके बाद से ही अंगरेज कौर ने अपने बेटे अमरीक सिंह को साथ लेकर जिला प्रशासन से लेकर राष्ट्रपति तक का दरवाजे पर सुरजीत सिंह को पाकिस्तान से रिहाई के लिए दस्तक दी है, लेकिन किसी ने भी सुरजीत सिंह के पाक जेल में होने की पुष्टि नहीं की है।

अप्रैल 2012 के दौरान अंगरेज कौर की उम्मीद पर पाकिस्तान के पूर्व मानवाधिकार मंत्री अंसार बर्नी ने मुहर लगाई थी। इसके बाद ऑल इंडिया एंटी टेरेरिस्ट फ्रंट के चेयरमैन मनिंदरजीत सिंह बिट्टा भी फरीदकोट में सुरजीत सिंह के परिवार से मिलने पहुंचे और उनकी हरसंभव मदद करने का ऐलान किया। परिवार को उम्मीद जगी थी कि अब जल्द ही सुरजीत सिंह की रिहाई हो जाएगी, लेकिन दोनों देशों के रिश्तों की खटास के कारण फिलहाल ऐसा संभव होता दिखाई नहीं दे रहा।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement