सियाचिन में 25 फुट बर्फ के नीचे दबा मिला जवान, 6 दिन बाद निकाला

author image
Updated on 10 Jul, 2016 at 1:06 pm

Advertisement

सियाचिन में हिमस्खल के बाद राहत व बचाव दल ने सोमवार को आश्चर्यजनक रूप से सेना के जवान लांस नायक हनुमनथप्पा को खोज निकाला। हनुमनथप्पा पिछले छह दिन से 25 फुट बर्फ के नीचे दबे हुए थे।

बताया गया है कि अलग-अलग जगहों पर 25 से 30 फुट मोटी बर्फ की परत काटकर लांस नायक को बाहर निकाला गया। इसके साथ ही पांच जवानों के शव भी बरामद किए गए हैं।

गत 3 फरवरी को भारी हिमस्खलन में एक जूनियर कमीशन ऑफिसर सहित 10 जवानों का समूह बर्फ के नीचे दब गया था। पहले यह माना जा रहा था कि सभी जवान शहीद हो गए हैं

रिपोर्टः सियाचिन में हमारे जवानों के बारे में ये 15 बातें जान के आप भाव विभोर हो उठेंगे

लांस नायक हनुमनथप्पा के बचने को आश्चर्यजनक माना जा रहा है। वे माइनस 40 डिग्री टेम्परेचर में पिछले 6 दिन से बर्फ के नीचे दबे थे। कर्नाटक के हनुमना की हालत गंभीर है। उन्हें आर्मी के रिसर्च एंड रेफरल हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है।


Advertisement

इस बीच, श्रीनगर में सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल एन.एन. जोशी ने बताया कि राहत व बचाव अभियान अंतिम जवान को खोजने तक जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि जहांव बचाव अभियान चल रहा है, उसके नजदीक ही एक नया कैम्प बनाया गया है।

हिमस्खलन के शिकार हुए सभी जवान मद्रास रेजिमेन्ट के थे। सेना ने शुक्रवार को लापता जवानों का नाम जारी किया था।

1) सूबेदार नागेश टीटी (गांव तेजुर, हासन, कर्नाटक)
2) हवलदार एलुमलाई एम (दुक्कम पराई, वेल्लौर, तमिलनाडु)
3) लांस नायक एस कुमार (कुमानन थोजू, तेनी, तमिलनाडु)
4) लांस नायक सुधीश बी (मोनोरोएथुरुत , कोल्लम, केरल)
5) कॉन्स्टेबल महेश पीएन (एचडी कोटे, मैसूर, कर्नाटक)
6) कॉन्स्टेबल गणेशन जी (चोक्काथीवन पट्टी, मदुरै, तमिलनाडु)
7) कॉन्स्टेबल राम मूर्ति एन (गुडिसा टाना पल्ली, कृष्णा गिरी, तमिलनाडु)
8) कॉन्स्टेबल मुश्ताक अहमद (पारनापल्लै, कुरनूल, आंध्र प्रदेश)
9) कॉन्स्टेबल नर्सिंग असिस्टेंट सूर्यवंशी एसवी (मसकरवाड़ी, सतारा, महाराष्ट्र)

हनुमनथप्पा को राहत व बचाव दल ने कुछ इस तरह बर्फ से बाहर निकाला।

Advertisement
Tags

आपके विचार


  • Advertisement