Advertisement

सोशल वर्कर ने रिश्वत में मिले 40 लाख रुपयों के साथ किया प्रेस कांफ्रेंस

1:07 pm 13 Jul, 2017

Advertisement

एक हैरान कर देने वाले मामले में एक सोशल वर्कर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई और टेबल पर 40 लाख रुपए फैला दिए। सोशल वर्कर संदीप ने दावा किया कि ये रकम उसे घोटाला दबाने के लिए मिले हैं।

महाराष्ट्र के सामाजिक कार्यकर्ता संदीप येवले ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में टेबल पर नोटों की गडि्डयां बिछाते हुए यह दावा किया। संदीप महाराष्ट्र मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ता हैं।

उन्होंने कहा है कि मुंबई के पूर्वी उपनगर के विक्रोली इलाके में स्लम रिहैबिलिटेशन अथॉरिटी (एसआरए) की योजना में हुआ घोटाला उजागर नहीं करने के लिए एक बिल्डर ने उसे 11 करोड़ रुपए रिश्वत की पेशकश की थी। इसमें से पहली किश्त के रूप में 29 मई को 60 लाख रुपए और दूसरी किश्त के रूप में 21 जून को 40 लाख रुपए दिए गए। उन्होंने इसका वीडियो भी बना लिया।


Advertisement

संदीप के अनुसार पहली क़िस्त के 60 लाख रुपए 260 घरों को न्याय दिलाने के लिए खर्च हुई है और दूसरी क़िस्त की रकम बची हुई है। उन्हें ओमकार रियल्टर्स के बाबूलाल वर्मा और दूसरे बिल्डर्स ने घूस दी। कौशिक मोरे नाम के एक शख्स ने राजू नादप और सुनील गांगुर्डे के जरिए उनके घर रकम पहुंचाई। उनका कहना है कि सरकार इजाजत दे तो वह रिश्वत की यह रकम मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा करने को तैयार हैं। वह इसे आदिवासियों के लिए काम करने वाले एनजीओ को भी देने के इच्छुक हैं।

संदीप ने कहा कि वह परियोजना से जुड़ी जानकारी आरटीआई और दूसरे माध्यमों से मांग रहे थे इससे बिल्डर परेशान थे और उन्हें रुपयों के अलावा परियोजना में पार्टनरशिप का भी वादा किया था। मामले में कुछ राजनेताओं व सरकारी मुलाजिम भी शामिल बताये जा रहे हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement