स्मृति ईरानी ने सैनिटरी पैड को लेकर दिया विवादित बयान, केंद्रीय मंत्री पर फूटा लोगों का गुस्सा

Updated on 24 Oct, 2018 at 6:48 pm

Advertisement

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद केरल के सबरीमाला मंदिर में महिलाएं प्रवेश नहीं कर पा रही हैं। कोर्ट के फ़ैसले के बाद भी मंदिर में 10-50 साल की उम्र की महिलाओं को अंदर नहीं जाने दिया जा रहा, जिसके चलते अब भी मंदिर में प्रवेश को लेकर विवाद जारी है। बहुत से लोग अब भी कोर्ट के फ़ैसले को मानने के लिए तैयार नहीं है। इस बीच मामले में स्मृति ईरानी ने एक ऐसा विवादास्पद बयान दे दिया है, जिसके चलते सोशल मीडिया पर वो लोगों के गुस्से का शिकार हो रही हैं।

 

हाल ही में मंदिर में प्रवेश के बारे में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अपना बयान देते हुए कहा मंदिर में प्रवेश कर पूजा करने की अनुमति है. लेकिन उसे अपवित्र करने की नहीं।

 

Smriti Irani Comment On Sabrimala Mandir - सबरीमाला मंदिर पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का बयान

 

स्मृति ईरानी ने अपना तर्क देते हुए कहा अगर महावारी में कोई महिला खून से सना पैड लेकर अपने दोस्त के यहां नहीं जाती, तो फिर ऐसी स्थिति में वो भगवान के घर कैसे प्रवेश कर सकती हैं।

 

उनके इस बयान के बाद लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और उन्हें सोशल मीडिया पर पोस्ट के ज़रिए सफाई देनी पड़ी।

 


Advertisement

 

बीते हफ़्ते एक सोशल एक्टिविस्ट सबरीमाला मंदिर में सैनिटरी पैड लेकर घुसने की कोशिश कर रही थी, इस बात का ज़िक्र करते हुए ईरानी ने कहा, ”अपना दिमाग इस्तेमाल करें, क्या आप मासिक धर्म के दौरान खून से सना हुआ नैपकिन लेकर अपने दोस्त के यहां जाएंगी, आप नहीं जाएंगी, क्या आपको लगता है भगवान के घर में ऐसा करना सही है।” उन्होंने ये भी साफ़ कर दिया ये उनकी व्यक्तिगत राय है।

 

 

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर 10 से 50 वर्ष आयु की महिलाओं के प्रवेश पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए उन्हें मंदिर में प्रवेश करने की अनुमति दी थी जिसके बाद सबरीमाला मंदिर के कपाट सभी महिलाओं के प्रवेश के लिए खोल दिए गए थे। लेकिन इस पर विवाद अब भी जारी है।

 

 

 

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement