धूम्रपान है जान का दुश्मन, धीरे-धीरे बुनता है मौत का मायाजाल

author image
Updated on 9 Mar, 2016 at 3:10 pm

Advertisement

एक अध्ययन में जो सच सामने आया है, वह वाकई चौकाने वाला है। इस अध्ययन में कहा गया है कि देश में बड़ी तादाद में लोग ध्रूमपान की बुरी और जानलेवा लत के शिकार हो चुके है। धूम्रपान करने वाले 15 से 69 साल की आयु के बीच के पुरुषों की संख्या में करीब 2.9 करोड़ की बढ़ोतरी हुई है। जहां यह आांकड़ा 1998 में 7.9 करोड़ था, वहीं 2015 में 10.8 करोड़ पहुंच गया है।

अध्ययन में यह बात भी सामने आई है कि 15 से 29 आयु के पुरुषों में धूम्रपान की लत तेजी से बढ़ रही है। वहीं 15 से 69 साल के बीच के आयु समूह में 1.1 करोड़ महिलाएं ऐसी हैं, जो धूम्रपान करती हैं।

टोरंटो विश्वविद्यालय के प्रभात झा के नेतृत्व में किए गए इस अध्ययन में कहा गया है कि धूम्रपान की वजह से 2010 में करीब 10 लाख लोगों की मौत हुई। यह आंकड़ा भारत में होने वाली कुल मौतों का 10 प्रतिशत है। इन मौतों का सबसे बड़ा हिस्सा 30 से 69 साल के बीच की आयु के लोगों का है।


Advertisement

अभी भी वक्त है कि खुद को धुंए में न उड़ाते हुए, अपनी ज़िन्दगी की अहमियत को समझा जाए। ध्रूमपान इंसान को सिर्फ ले डूबता है।

अगर आपको लगता है कि धूम्रपान से कोई नुकसान नहीं होता है, तो आप गलत हैं। आप सिगरेट नहीं फूंक रहे होते हैं, बल्कि सिगरेट आपको फूंक रही होती है।

धूम्रपान कर आप खुद की ज़िन्दगी को तबाह कर ही रहे है, साथ ही अपनों की ज़िन्दगी के साथ भी खिलवाड़ कर रहे हैं।

स्मोकिंग किस हद तक आपके शरीर को नुकसान पहुंचाती है, यह तस्वीर उसे बयां करने के लिए काफी है।

quit smoking

स्मोकिंग का घातक असर आप इस तस्वीर में बखूबी देख सकते है।

Smoking effect

नॉन स्मोकर (बाएं), स्मोकर (दाएं) fitneass

वक्त अभी भी है… #SayNoToSmoking

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement